समाज सेवक आदर्श पांडेय व उनकी टीम द्वारा नए वर्ष के पावन पर्व पर गरीबों में किया खाने की सामग्री का वितरण, छोटे बच्चों के साथ कि नए वर्ष की शुरुआत, - Ideal India News

Post Top Ad

समाज सेवक आदर्श पांडेय व उनकी टीम द्वारा नए वर्ष के पावन पर्व पर गरीबों में किया खाने की सामग्री का वितरण, छोटे बच्चों के साथ कि नए वर्ष की शुरुआत,

Share This
#IIN 

समाज सेवक आदर्श पांडेय व उनकी टीम द्वारा नए वर्ष के पावन पर्व पर गरीबों में किया खाने की सामग्री का वितरण, छोटे बच्चों के साथ कि नए वर्ष की शुरुआत,

Adarsh pandey




Panna- गुनौर तहसील अंतर्गत चौमुखनाथ में 1 जनवरी 2022 को साल का पहला दिन मनाने के लिए गरीबों के बीच पहुंचे समाजसेवी

】हम आपको बता दें कि पूरे विश्व भर में अलग-अलग समय पर नए साल मनाया जाता है। इसी तरह भारत में भी अलग-अलग समय पर नव वर्ष मनाया जाता है। लेकिन ज्यादातर लोग अंग्रेजी कलैंडर के अनुसार ही 1 जनवरी को नया साल मानते हैं। 31 दिसंबर की रात से ही लोग नए साल का जश्न मनाना शुरू कर देते हैं। पुराने साल को अलविदा कह कर नए साल का स्वागत शुभकामनाओं के साथ किया जाता है। दिसंबर की बढ़ती सर्दियों के बाद नए साल का आगमन होता है। 

- नया साल अपने साथ नयी उम्मीदें , नए लक्ष्य, नए वादे, नए सपने लेकर आता है। लोग अपने आप से कुछ नए वादे करते हैं और ये कोशिश करते हैं की उन वादों को आनेवाले साल में पूरा कर सके। ऐसा माना जाता है की अगर नए साल का पहला दिन अच्छा और ख़ुशी से बीते तो आनेवाला पूरा साल सुखपूर्वक बीतता है। लोग अपना एक लक्ष्य तय करते हैं की वे आने वाले नए साल में क्या क्या नयी चीज़े करेंगे। नए साल पर भारत में लोग मंदिर जाते हैं , पूजा पथ करते हैं और कई लोग अपने करीबी दोस्तों के साथ मिलकर पार्टियां करते हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad