इन आसनों के साथ कर सकते हैं शुरुआत, योगासनों को बनाना चाहते हैं जीवन का हिस्सा, - Ideal India News

Post Top Ad

इन आसनों के साथ कर सकते हैं शुरुआत, योगासनों को बनाना चाहते हैं जीवन का हिस्सा,

Share This
#IIN

इन आसनों के साथ कर सकते हैं शुरुआत, योगासनों को बनाना चाहते हैं जीवन का हिस्सा,


आदर्श पांडेय


-】स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं, किसी भी उम्र के लोग योग का अभ्यास कर सकते हैं। इसको शुरू करने की भी कोई उम्र नहीं है। यदि आप योग की शुरुआत करने की सोच रहे हैं तो यकीन मानिए अब भी देर नहीं हुई है। कुछ हल्के स्तर के योगाभ्यासों के साथ इसकी शुरुआत की जा सकती है। आइए आगे की स्लाइडों में जानते हैं कि किन योगासनों के साथ योग की शुरुआत करके आप तमाम तरह के स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं।

सूर्य नमस्कार योग का अभ्यास
यदि आप योग को अपने जीवनशैली में शामिल करने के बारे में सोच रहे हैं तो सूर्य नमस्कार योग से इसकी शुरुआत की जा सकती है। शारीरिक और मानसिक, दोनों ही प्रकार के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए सूर्य नमस्कार योग का अभ्यास आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। शरीर के लचीलेपन को बढ़ाने के साथ रक्त प्रवाह में सुधार करने में इस योग का अभ्यास लाभदायक माना जाता है।

वृक्षासन योग का अभ्यास
वृक्षासन योग या ट्री पोज़ संतुलन में सुधार करने के साथ कूल्हे के आसपास की मांसपेशियों को फैलाने में काफी फायदेमंद माना जाती है। इस योग का अभ्यास करना कमर, जांघ, कूल्हों और पेल्विक अंगों को स्थिरता प्रदान करने में मदद करने के साथ कोर को मजबूत करता है। योग के शुरुआती दिनों में इन अभ्यास को करने से लाभ मिल सकता है।


भारत में हजारों सालों से योगासनों का अभ्यास कई तरह के स्वास्थ्य लाभ के लिए किया जाता रहा है। हाल के कुछ वर्षों में पश्चिमी देशों में भी योग की लोकप्रियता तेजी से बढ़ी है। अध्ययनों से पता चलता है कि योग का नियमित रूप से अभ्यास करके कई तरह के स्वास्थ्य लाभ पाए जा सकते हैं। शरीर को मजबूत बनाने और मन को शांत करने के लिए योग का अभ्यास करना बेहतर विकल्प हो सकता है। सबसे अच्छी बात यह है कि योग का अभ्यास घर पर भी बिना किसी उपकरण के किया जा सकता है।


बालासन योग का अभ्यास
बालासन योग का अभ्यास सामान्यत: आसान और कई तरह के स्वास्थ्य लाभ वाला माना जाता है। यह मुद्रा पीठ, कूल्हे और हाथ की मांसपेशियों को फैलाने के साथ तंत्रिका तंत्र को आराम दिलाने में काफी फायदेमंद मानी जाती है। गहरी सांस लेने वाले व्यायाम के साथ बालासन योग का अभ्यास आपके मन को शांत करने के साथ चिंता और थकान को कम करता है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad