काव्यसृजन वाटिका-२(२०२१)* होली काव्य संग्रह * पर परिचर्चा सम्पन्न💥 - Ideal India News

Post Top Ad

काव्यसृजन वाटिका-२(२०२१)* होली काव्य संग्रह * पर परिचर्चा सम्पन्न💥

Share This
#IIN
शिव प्रकाश जौनपुरी नालासोपारा महाराष्ट्र
💥काव्यसृजन वाटिका-२(२०२१)* होली काव्य संग्रह * पर परिचर्चा सम्पन्न💥
     राष्ट्रीय साहित्यिक सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था *काव्यसृजन* द्वारा "अखिल भारतीय काव्य मंच" मुम्बई, के पटल पर
 काव्यसृजन वाटिका-२,२०२१




पुस्तक पर परिचर्चा आयोजित की गई| इस परिचर्चा में देश के कई मूर्धन्य विद्वानों ने अपने विचार रखे|
         चित्रकूट से डॉ.गोपाल मिश्र,श्रीरामभद्राचार्य महाविद्यालय के संगीत शिक्षक, ने बड़ी ही बारीकी से सभी रचनाकारों की रचनाओं पर विचार प्रकट करते हुए एक एक विशेषता का उल्लेख किया
   कानपुर से डॉ.श्रीहरि वाणी जी ने उनकी बातों को आगे बढ़ाते हुए संक्षिप्त व सारगर्भित विवेचना की,
   आदरणीय माताप्रसाद शर्मा जी ( हिंदी प्रवक्ता )द्वारा  बहुत ही सुन्दर ढंग से पुस्तक पर अपने विचार प्रस्तुत किये गए |
  पं.ओमप्रकाश मिश्र  जी  जो कि न्यूज फर्स्ट ओमकार के सम्पादक हैं किन्हीं तकनीकी व्यवधान के कारणनहीं उपस्थित हो सके उनके विचार सुनने से सभी श्रोतागण वंचित रह गये|आदरणीय श्रीधर मिश्र, सौरभ दत्ता "जयंत" जी ने भी संक्षिप्त विचार प्रकट किये|
       आयोजन अध्यक्ष आदरणीय हौंसिला प्रसाद अन्वेषी जी ने अपने उद्वोधन में संस्था के काम की प्रशंसा करते हुए सभी पदाधिकारियों को साधुवाद दिया और पूरे आयोजन पर प्रकाश डाला,पुस्तक पर भी अपने विचार रखते सभी की विवेचना पर अपनी सूक्ष्म दृष्टि का दृष्टिपात करते हुए साधुवाद व सलाह भी दी 
      प्रा.अंजनी कुमार द्विवेदी"अनमोल रसिक"जी के विवेक पूर्ण संचालन में अध्यक्षता आदरणीय हौंसिला प्रसाद अन्वेषी जी ने की,सभी मनिषियों एवम उपस्थित जनों का आभार संस्था के उपकोषाध्यक्ष सौरभ दत्ता जयंत जी द्वारा   किया गया
   पं.शिवप्रकाश जौनपुरी जी द्वारा सरस्वती वंदना से जो सुन्दर आयोजन की शुरुआत हुई वो सुन्दरता,  शालीनता आयोजन पर्यंत  बनी रही यही आज के आयोजन की सार्थकता रही जिसका कि श्रोताओं ने भरपूर आनंद लिया..
   सभी विद्वानो ने संस्था के विभिन्न आयोजनों , क्रिया कलापों की सराहना करते कहा.. काव्य सृजन  न सिर्फ गोष्ठीयाँ / सम्मान समारोह बल्क उसके अतिरिक्त लोक भाषा.. परम्परा की विरासत के संरक्षण का अनूठा सार्थक कार्य भी कर रही है.. आदरणीय शिवप्रकाश जी जौनपुरी द्वारा आगामी प्रकाशन के रूप मेँ *कजरी काव्य संग्रह* की घोषणा से सभी रचनाकारों को अपनी माटी से जुड़ी रचनाओं हेतु प्रोत्साहन मिलेगा..💥💥💥

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad