भाजपा पर जमकर बरसीं, नौ दिन में दूसरी बार मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, - Ideal India News

Post Top Ad

भाजपा पर जमकर बरसीं, नौ दिन में दूसरी बार मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की,

Share This
#IIN

भाजपा पर जमकर बरसीं,  नौ दिन में दूसरी बार मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की,

 Ambedkarnagar-》 Vinod Kumar Mishra, 


-】
बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने आठ दिन बाद रविवार को फिर से प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने चुनाव आयोग से अनुरोध किया। कहा, 'चुनावों को धार्मिक रंग देकर स्वार्थ की संकीर्ण राजनीति' करने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाए।

मायावती ने कहा कि चुनावी राज्यों में बहुत जरूरी है कि निर्वाचन आयोग आदर्श आचार संहिता को पूरी सख्ती से लागू कराने के लिए ठोस कदम उठाए, ताकि आमजन में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराने के संबंध में विश्वास कायम हो सके। उन्होंने आरोप लगाया, 'पिछले कुछ वर्षों में चुनावों के दौरान हर प्रकार की धांधली करने तथा सत्ता और धर्म का चुनावी लाभ लेने के लिए अनुचित काम करने की प्रवृत्ति काफी घातक रूप में बढ़ी है।'

मायावती ने आगे कहा, 'पिछले कुछ चुनावों में कोरोनावायरस के प्रकोप के बीच भी जिस प्रकार से रैलियों एवं रोड शो आदि के जरिये आचार संहिता का खुला उल्लंघन किया गया है, उससे पूरा देश हैरत में है। इसके अलावा, पिछले कुछ वर्षों से चुनावों को धार्मिक रंग देकर जिस प्रकार से स्वार्थ की संकीर्ण राजनीति की जा रही है, उस पर भी चुनाव आयोग को सख्त कदम उठाने की जरूरत है।'

उत्तर प्रदेश समेत सभी पांच राज्यों में चुनावी बिगुल बज चुका है। यूनी में सात चरणों में चुनाव होंगे। 10 फरवरी को पहले फेज की वोटिंग होगी। इसके बाद 14, 20, 23, 27 फरवरी, तीन और सात मार्च को वोट पड़ेंगे। चुनाव की तिथियां घोषित होने के बाद सियासी हलचलें और भी तेज हो गईं हैं। 403 विधानसभा सीट वाले इस प्रदेश में सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। राजनीतिक बयानबाजी से नेता एक-दूसरे पर निशाना साध रहे। चुनावी वादों की भी बौछार होने लगी है। धरना-प्रदर्शन भी खूब होने लगे हैं। 

विपक्ष की मुफ्त योजनाओं पर योगी का पलटवार
विपक्ष के बिजली समेत कई मुफ्त योजनाओं पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पलटवार किया है। दूरदर्शन कॉन्क्लेव में बोलते हुए उन्होंने कहा, 'ये जो फ्री की बात करते हैं वो केवल लोगों को गुमराह कर रहे हैं, क्योंकि इनके पास इसका कोई एजेंडा नहीं है। ये लोग घोषणा वीर हैं। इनके पास कहने और करने के लिए कुछ नहीं है। जब कोई भी औजार और शस्त्र इनके पास नहीं है तो ये केवल फ्री... फ्री... फ्री की बात करते हैं।'

योगी ने आगे कहा, 'जहां, आवश्यकता थी वहां हमने फ्री किया है, लेकिन आम नागरिकों पर बोझ डालने की बजाय हमने अपने रिसोर्स और आमदनी के स्त्रोत को बढ़ाया। इससे जो सरप्लस पैसा आया उसे विकास कार्यों में लगाया। उसके बाद जो बचत हुई, उससे किसानों का कर्ज माफ किया, युवाओं को टैबलेट और स्मार्ट फोन बांटा। 15 करोड़ गरीबों को मुफ्त अनाज दिया।'




No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad