वो मंजर याद करके रो देंगे आप, यह था साल का सबसे मनहूस महीना, - Ideal India News

Post Top Ad

वो मंजर याद करके रो देंगे आप, यह था साल का सबसे मनहूस महीना,

Share This
#IIN

वो मंजर याद करके रो देंगे आप, यह था साल का सबसे मनहूस महीना,


डॉक्टर मिथिलेश श्रीवास्तव- स्वास्थ्य


-】कोरोना पर काफी हद तक नियंत्रण पाने का भी प्रयास किया लेकिन पूरे साल में एक महीना ऐसा था, जब कोरोना से शायद हर किसी को रुला दिया। इस भयानक संक्रमण की चपेट में आने वाले रोगी, उनके परिजन तो परेशान हुए ही, साथ ही जिस तरह का दृश्य सामने आया, उसे देख हर कोई परेशान हुआ। पूरे साल का सबसे मनहूस महीना रहा मई का महीना। 


साल 2021 का अंत होने वाला है। नया साल नई उम्मीदें और नई आशाएं लेकर आए, इसी उम्मीद में लोग साल 2022 का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन अगर इस बीते हुए साल को पीछे मुड़कर देखें और इस साल से जुड़ी यादों के बारे में सोचें तो साल 2021 हमें कुछ खट्टी मीठी यादें देकर गया। साल 2021 में कुछ अच्छा हुआ तो कुछ बहुत बुरा। हालांकि एक बात जिसने साल 2021 में लोगों को डराकर रखा, वह है कोरोना वायरस का खौफ। इस साल भारत ने 100 करोड़ से ज्यादा का वैक्सीनेशन डोज पूरा किया। 

मई 2021 में कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा 

भारत के लिए मई 2021 किसी बुरे सपने से कम नहीं था। इस महीने में कोरोना की चपेट में आकर करीब एक लाख बीस हजार लोगों की मौत हुई। हालात ये रहे कि कई शहरों में श्मशान घाटों और कब्रिस्तानों में जगह तक नहीं मिली। श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार के लिए लंबी लंबी लाइनें देखने को मिली। कुछ जगहों पर प्रशासन को श्मशान घाटों को टीन शेड से कवर करना पड़ा।

मई 2021 में बढ़ी ऑक्सीजन की मांग

इस साल भारत ने ऑक्सीजन की किल्लत को झेला। भारत में ऑक्सीजन की मांग बढ़ी। ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए केंद्र से लेकर राज्य सरकारों तक ने बड़े कदम उठाए। ऑक्सीजन की पूर्ति को लेकर आम लोग सेंटर के सामने लंबी लंबी लाइनों पर खड़े मिले। वहीं अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई की आपूर्ति पर मुसीबत आ गई, लेकिन महीने का अंत होते होते सरकार, प्रशासन और अस्पतालों ने मिल कर इस संकट से भी निजात पा लिया। 

मई 2021 में कोरोना संक्रमण के मामले

कोरोना के नए मामलों और मौतों के आंकड़ों ने मई महीने में पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे। मई 2021 में कोरोना वायरस से संक्रमित नए मामलों के बारे में बात करें तो उस समय देश में एक महीने में कोरोना के 90.3 लाख नए केस दर्ज किए गए थे। हालांकि मई के आखिरी दिनों में कुछ राहत मिली लेकिन पूरे साल की तुलना में यह कोरोना का सबसे अधिक आंकड़ा रहा।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad