भ्रष्टाचार का बीडीओ वायरल करने वाले युवक को सरेराह धुना , लेखपाल पर अपने सागिर्दो से पिटवाने का आरोप - Ideal India News

Post Top Ad

भ्रष्टाचार का बीडीओ वायरल करने वाले युवक को सरेराह धुना , लेखपाल पर अपने सागिर्दो से पिटवाने का आरोप

Share This
#IIN

*भ्रष्टाचार का बीडीओ वायरल करने वाले युवक को सरेराह धुना , लेखपाल पर अपने सागिर्दो से पिटवाने का आरोप*

KishanChand



 खुटहन ( जौनपुर) : पिलकिछा पुल के पास रविवार को आधा दर्जन मनबढ़ो ने बाइक सवार दो युवको को लाठी डंडा से पीटकर घायल कर दिया। आरोप है कि उसकी जेब से दो हजार रुपये भी छीन लिए। पीड़ित ने थाने में तहरीर देकर आरोप लगाया है कि भूमि विवाद के निपटारे के नाम पर एक लेखपाल का आठ हजार रूपये मांगते इंटरनेट मीडिया पर बीडीओ वायरल कर कर देने से नाराज लेखपाल अपने सागिर्दो से उसकी पिटाई करवा दिया। घटना की छानबीन पुलिस कर रही है। 
 बदलापुर थाना क्षेत्र के हरिदासपट्टी गाँव निवासी ओम नारायण तिवारी अपने साथी इन्द्रपति यादव को बाइक पर बैठाकर शाहगंज से वापस घर आ रहा था। पुल के पास पहले से ही घात लगाये बैठे आधा दर्जन की संख्या में मनबढ़ो ने उसे रोक पिटाई शुरू कर दी। आरोप है कि जेब में रखा पैसे भी छीन लिए। घायल का यह भी आरोप है कि उसका गाँव में भूमि विवाद चल रहा था। जिसके निपटारे के लिए यहां तैनात लेखपाल उससे आठ हजार रूपये मांग रहा था। जिसका उसने तीन दिन पूर्व बीडीओ बनाकर वायरल कर दिया था। आरोप है कि इससे नाराज लेखपाल अपने आधा दर्जन सागिर्दो को मिलाकर उसकी सरेराह पिटाई करा दिया। घायलो का उपचार सीएससी पर किया गया।
 

लेखपाल ने कहा 8000 तो मेरा रेट ही है.. 
जौनपुर। बदलापुर तहसील के हरिदास पट्टी गांव में तैनात हल्का लेखपाल सदानंद भट्ट ने उक्त गांव निवासी ओम नारायण तिवारी पुत्र राम शिरोमणि तिवारी से प्रधानमंत्री आवास के लिए रिपोर्ट लगाने हेतु ₹8000 की रिश्वत लिया। इस के संदर्भ में वायरल वीडियो में लेखपाल यह कहते हुए देखा जा सकता है कि ₹8000 तो मेरा रेट ही है किसी से पूछ लो। 3000 दे दिए हो 5000 और दे देना तुम्हारा आवास बन जाएगा। जिस प्रधानमंत्री आवास के लिए केंद्र और राज्य सरकारें पारदर्शिता का दंभ भरते नहीं थकतीं, उसी प्रधानमंत्री आवास को बनाने हेतु रिपोर्ट देने के लिए लेखपाल द्वारा खुलेआम रिश्वत लिया जाना चर्चा का विषय बना हुआ है। उसकी शिकायत करने वाले पीड़ित को लेखपाल ने जिंदगी फंसा देने की धमकी भी दिया है। जिलाधिकारी मनीष वर्मा से पीड़ित ने सभी साक्ष्य सहित लिखित शिकायत भी दे दिया देखना है कि लेखपाल की हनक भारी पड़ती है या जिलाधिकारी की कार्यवाही।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad