आप भी देखिए, सामने आया लोकार्पण के लिए मेहमानों को भेजा जा रहा बेहद खास निमंत्रण पत्र, - Ideal India News

Post Top Ad

आप भी देखिए, सामने आया लोकार्पण के लिए मेहमानों को भेजा जा रहा बेहद खास निमंत्रण पत्र,

Share This
#IIN

आप भी देखिए, सामने आया लोकार्पण के लिए मेहमानों को भेजा जा रहा बेहद खास निमंत्रण पत्र, 


Varanasi-》 Rajnarayan Vishwkarma


-】यह कार्ड श्री काशी विश्वनाथ मंदिर की पौराणिकता के साथ ही इतिहास को भी अपने आप में समेटे हुए है। अखिल भारतीय संत समिति के महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने बताया कि आमंत्रण पत्र में लिखा है कि वाराणसी देवाधिदेव महादेव भगवान शिव की नगरी के रूप में पूरे जगत में विख्यात है। इसे सामान्य श्रद्धालु काशी के रूप में भी जानते हैं।

मान्यता है कि भगवान शिव आज भी साक्षात काशी में विराजमान हैं। यहां मोक्षदायनी मां गंगा के दर्शन भी सुलभ हैं। सनातन हिंदू धर्म के केंद्र के रूप, बौद्ध और जैन पंथों के सिद्धों के साथ-साथ संतों, योगियों और कालांतर में शिक्षाविदों ने अपनी साधना और सिद्धि का केंद्र वाराणसी को बनाया।

आगे लिखा है-  काशी में विराजमान बाबा विश्वनाथ का ज्योर्तिलिंग द्वादश ज्योर्तिलिंग में प्रमुख स्थान पर है। मध्यकाल में मुगलों ने इस पावन स्थल को भारी क्षति पहुंचाई थी। सन 1777-78 ई. में महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने मंदिर परिसर का पुर्ननिर्माण कराया था। कालांतर में 19वीं सदी में महाराजा रणजीत सिंह ने मंदिर पर स्वर्ण शिखर लगवाया था।

 श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण की तैयारी जोरों पर है। 13 दिसंबर को आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे, वहीं कई विशिष्ठ अतिथियों को भी इस ऐतिहासिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए निमंत्रण दिया गया है। लोकार्पण का निमंत्रण पत्र भी अपने आप में बेहद खास है। इसमें मंदिर के काशी विश्वनाथ मंदिर साढ़े तीन सौ सालों के इतिहास के साथ ही वर्तमान तक की यात्रा का विवरण दर्ज है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad