कैलाश खेर ने जगाई शिव की अलख, झूम उठी जनता, चाणक्य और चंद्रगुप्त नाटक से काशी फिल्म फेस्टिवल का आगाज, - Ideal India News

Post Top Ad

कैलाश खेर ने जगाई शिव की अलख, झूम उठी जनता, चाणक्य और चंद्रगुप्त नाटक से काशी फिल्म फेस्टिवल का आगाज,

Share This
#IIN

कैलाश खेर ने जगाई शिव की अलख, झूम उठी जनता, चाणक्य और चंद्रगुप्त नाटक से काशी फिल्म फेस्टिवल का आगाज,


Nagendra kumar singh,


-】पहली बार काशी में तीन दिन का काशी फिल्म फेस्टिवल का आयोजन हो रहा है। सिगरा स्थित रुद्राक्ष इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर से लेकर संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम सिगरा तक कलाकारों का मेला लगा रहा। इस दौरान प्रदेश के पर्यटन मंत्री डॉक्टर नीलकंठ तिवारी ने कहा कि काशी के कण-कण में शंकर विराजमान हैं और यहां के हर शब्द में दर्शन है।

धर्म, कला और संस्कृति की नगरी वाराणसी ने सोमवार को एक नया इतिहास रचा। काशी फिल्म महोत्सव की शुरुआत चाणक्य और चंद्रगुप्त नाटक से हुई। महोत्सव की शाम बॉलीवुड कलाकारों और फनकारों से गुलजार रही।  नाटक मंचन में चाणक्य का भूमिका मनोज जोशी, चंद्रगुप्त मौर्य के रूप में राजीव भारद्वाज और अमात्य राक्षस का अभिनय अशोक बांठिया ने किया।

उनके नाम पर तो लोगों ने राजनीति बहुत की, लेकिन उनकी अवधारणा और उनके सपनों को साकार करने का काम प्रधान नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2014 में वाराणसी से सांसद चुने जाने के बाद ही शुरू कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में काशी से निकला संदेश पूरा विश्व सुन रहा है तथा दिव्य और भव्य काशी सबको भा रही है।


कहा कि जो लोग काशी को जानते हैं, वह काशी को समझते भी हैं। यहां करोड़पति भी रिक्शे पर बैठता है तो, काहो राजा गोदौलिया चलबा कहकर रिक्शेवाले को राजा बना देता है। 100 साल पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी आए थे। काशी के बारे में यही कहा था की काशी विश्वनाथ की गंदी और बजबजाती गलियों में कोई गिर जाए तो यहां से क्या संदेश लेकर जाएगा।



No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad