पाठ से गूंजा मानस पंडाल सुंदर कांड के सस्वर, - Ideal India News

Post Top Ad

पाठ से गूंजा मानस पंडाल सुंदर कांड के सस्वर,

Share This
#IIN

पाठ से गूंजा मानस पंडाल सुंदर कांड के सस्वर,


Sonbadra-》 Dr. Ashok Kumar pandey,  



-】इसमें राम भक्त हनुमान का प्रमुख स्थान है। इसके पूर्व रात्रि प्रवचन में गोरखपुर से आए हेमंत तिवारी और जौनपुर से पधारे विद्यार्थी जी ने भरत के चरण पादुका लेकर राज्य का संचालन, जटायु उद्धार की कथा को मार्मिक ढंग से सुनाया। कार्यक्रम में विहिप के केंद्रीय सह मंत्री अमरीश सिंह, रामचरित मानस समिति नवाह्न पाठ के महामंत्री सुशील पाठक, संरक्षक इंद्रदेव सिंह, रतन लाल गर्ग, अयोध्या दुबे, मिठाई लाल सोनी, राकेश त्रिपाठी, सत्य प्रताप सिंह, दीपक केसरवानी, विमलेश पटेल, रविंद्र पाठक आदि मौजूद रहे।

मंचासीन आचार्यों एवं भक्तों ने श्रीराम दरबार की आरती उतारी। यजमान अजय शुक्ला, माधुरी शुक्ला ने रुद्राभिषेक किया। इसके बाद व्यास महाराज ने भूदेवों के साथ मानस पाठ प्रारंभ कराया। आचार्य सूर्य लाल मिश्र के आचार्यत्व में स्त्री मंडल सहित अन्य भक्तों ने सुंदरकांड का सस्वर पाठ किया। सुंदर कांड पर आधारित कथा में हनुमानजी के लंका प्रस्थान, सुरसा की ओर से बल-बुद्धि की परीक्षा, लंकिनी पर प्रहार, लंका में प्रवेश, हनुमान-विभीषण संवाद, हनुमान जी का अशोक वाटिका में सीता को देखकर दुखी होना और रावण का सीता को भय दिखाना, सीता-हनुमान संवाद, लंका दहन आदि के प्रसंगों पर श्रोता आनंदित हो गए। कथा पीठ से व्यास जी ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास कृत श्रीरामचरितमानस में सुंदरकांड एक महत्वपूर्ण कांड हैं, जहां सभी राम भक्तों की आस्था और विश्वास की झलक उनके कृत्यों से मिलती है। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad