यूपी में 90 लाख केस पेंडिंग, चीफ जस्टिस बोले- न्याय के मंदिर से कोई निराश होकर नहीं लौटे, - Ideal India News

Post Top Ad

यूपी में 90 लाख केस पेंडिंग, चीफ जस्टिस बोले- न्याय के मंदिर से कोई निराश होकर नहीं लौटे,

Share This
#IIN

यूपी में 90 लाख केस पेंडिंग, चीफ जस्टिस बोले- न्याय के मंदिर से कोई निराश होकर नहीं लौटे,


Nagendra kumar singh, वाराणसी



-】न्यायालयों में टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में सुधार
सिविल कोर्ट परिसर हुए लोकार्पण समारोह के दौरान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस राजेश बिंदल ने कहा कि कोरोना काल में जिला न्यायालयों में टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में सुधार हुआ है और आगे इसमें और बढ़ोतरी होने की संभावना है।

अदालतों में बुनियादी सुविधाओं पर कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर बहुत आवश्यक है, इस पर कार्य हो रहा है, क्योंकि इंफ्रास्ट्रक्चर अच्छा होने पर कार्य भी अच्छा होता है। कोरोना काल के समय रुके कार्यों को भी हमें प्राथमिकता देनी होगी। 

अधिवक्ताओं को संबोधित करते उन्होंने कहा कि जनवरी से कचहरी परिसर से बाहर चल रही अदालतें भी इसी परिसर में संचालित होने लगेंगी। उनका प्रयास होगा कि अधिवक्ताओं द्वारा बताई गई समस्याओं को निस्तारित कर सकें। समारोह में हुए सम्मान व स्वागत से अभिभूत होकर उन्होंने कहा कि बाबा की नगरी में इस तरह का स्वागत व सम्मान पाना गौरवांवित करने वाला है।  

इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस राजेश बिंदल ने शनिवार सुबह वाराणसी में 16 कक्षीय कोर्ट रूम और नौ मंजिला अदालत भवन का लोकार्पण किया। बतौर मुख्य अतिथि उन्होंने कहा कि न्यायिक व्यवस्था में सुधार पुराने मुकदमों के जल्द निस्तारण से ही संभव है।

उत्तर प्रदेश बहुत बड़ा प्रदेश है और यहां पर 90 लाख केस पेंडिंग है, जो कि पूरे देश में लंबित मामलों का 20 प्रतिशत है। ऐसे में हमारा दायित्व और बढ़ जाता है। हम सब का प्रयास ऐसा हो कि न्याय के मंदिर से कोई निराश होकर नहीं लौटे, लेकिन न्याय सबकी नजर में होना चाहिए और उसमें देर नहीं होनी चाहिए। उन्होंने 20 साल पुराने लंबित केस का उदाहरण भी दिया। 



No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad