विद्यापीठ में गुरु-शिष्य आए आमने सामने, - Ideal India News

Post Top Ad

विद्यापीठ में गुरु-शिष्य आए आमने सामने,

Share This
#IIN 

विद्यापीठ में गुरु-शिष्य आए आमने सामने,

Varanasi-》 Jay chand, Dr  U S Bhagat 



वाराणसी । महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में बदसलूकी के मुद्दे पर छात्र और शिक्षक आमने सामने हो गए हैं। सोमवार को बदसलूकी करने वाले छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की मांग लेकर शिक्षक धरने पर बैठे तो छात्र भी शिक्षकों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर धरने पर बैठ गए। परिसर में गर्म माहौल को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात कर दी गयी है। दोपहर बाद कुलपति ने दोनों पक्षों को बुलाकर बातचीत की। मामले की जांच के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया गया है। कमेटी को तीन दिन में रिपोर्ट देनी है। पिछले दिनों प्रो. केएस जायसवाल के साथ बदसलूकी के खिलाफ शिक्षक आंदोलित हैं। शिक्षकों ने शनिवार के बाद सोमवार को भी धरना जारी रखा। शिक्षकों के धरने की सूचना छात्रों को भी लग गई और सोमवार को शिक्षकों के पहुंचने से पहले ही वह प्रशासनिक भवन के सामने धरनास्थल पर काबिज हो गए। इसपर शिक्षक प्रशासनिक भवन से उठकर समाजकार्य विभाग के सामने धरने पर बैठे तो छात्र वहां भी धरना देने पहुंच गए। मौके पर मौजूद फोर्स ने छात्रों को वहां से हटाया तो छात्र परिसर में जुलूस निकालने लगे और शिक्षकों के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। इस दौरान परिसर का माहौल काफी गर्म रहा। प्रकरण संज्ञान में लेते हुए कुलपति ने दोपहर बाद दोनों पक्षों को बातचीत के लिए बुलाया। बदसलूकी के मामले में शिक्षक कार्रवाई की मांग कर रहे थे तो छात्र भी दबाव बना रहे थे। इसपर कुलपति ने प्रकरण की जांच के लिए एक कमेटी के गठन का आदेश दिया। कमेटी को तीन दिन के भीतर प्रकरण पर रिपोर्ट देने को कहा गया है। इधर, शिक्षकों का आरोप था कि बदसलूकी के साक्ष्य के बावजूद विद्यापीठ प्रशासन आरोपी छात्रों पर कार्रवाई से कतरा रहा है। इसके साथ ही गोपनीय सूचनाएं भी लीक की जा रही हैं, जिसे लेकर शिक्षकों में नाराजगी है। धरना देने वालों में प्रो. केएस जायसवाल, डॉ. अनिल कुमार, प्रो. अनुराग कुमार, डॉ. सालरा परवीन, डॉ. कविता आर्या, डॉ. वंशीधर पांडेय समेत कई शिक्षक मौजूद रहे।शिक्षक से बदसलूकी मामले में दबाव के बाद विद्यापीठ प्रशासन ने अंतत: दो आरोपी छात्रों को नोटिस जारी की है। जांच कमेटी के सामने इन्हें अपना बयान देना होगा। कमेटी शिक्षकों का बयान भी दर्ज करेगी इस आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। कुलपति ने कहा कि धरना के दौरान कक्षाएं  बाधित न हों  ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad