जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय एवं फाइलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम मांस ड्रग एडमिडस्ट्रेशन जिला स्तरीय समन्वयन की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई* - Ideal India News

Post Top Ad

जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय एवं फाइलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम मांस ड्रग एडमिडस्ट्रेशन जिला स्तरीय समन्वयन की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई*

Share This
#IIN

*जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय एवं फाइलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम मांस ड्रग एडमिडस्ट्रेशन जिला स्तरीय समन्वयन की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई*

Dr Rajesh Jain,जौनपुर- 



   बैठक में जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि फाइलेरिया रोग के संक्रमण, नियंत्रण और बचाव को लेकर जनपदवासियों को जागरूक करे और कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन हेतु अन्य संबंधित विभागों से समन्वय स्थापित करें। उन्होंने कहा कि यह रोग किसी भी दशा में फैलने न पाए। उन्हाने जिला मलेरिया अधिकारी वी0पी0 सिंह को निर्देशित किया कि फाइलेरिया के संबंध में ट्रेनिंग चलाकर उन्मूलन में सहयोग करें। जिला पंचायत राज अधिकारी संतोष कुमार को निर्देशित किया कि फाइलेरिया रोग का संक्रमण गंदे पानी से होता है अतः अभियान चलाकर साफ-सफाई के कार्य कराये जाये।  जिला पूर्ति अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी, कोटेदार, प्रधान का सहयोग लेते हुए लोगों को दवा का सेवन हेतु जागरूक करने के निर्देश दिये गये। 
     मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा बताया गया कि 22 नवम्बर से घर-घर फाइलेरिया की दवा स्वास्थ्य विभाग के द्वारा वितरित की जायेगी, जिसका सेवन अवश्य करे।  
   जिलाधिकारी द्वारा बेसिक शिक्षा अधिकारी गोरखनाथ पटेल को निर्देशित किया कि फाइलेरिया के संबंध में स्कूलों में जागरूकता अभियान चलाये और नाटक, निबंध, रैली, प्रार्थना सभा आदि के माध्यम से बच्चों को फाइलेरिया रोग के सम्बन्ध में जागरूक करें।
  जिलाधिकारी ने जनपद में संस्थागत प्रसव एवं अस्पताल में प्रसव के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी प्राप्त की और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि आशा, आगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर नवजात बच्चों का वजन, पल्स रेट, शरीर के रंग में बदलाव, सांस लेने में तकलीफ सहित अन्य लक्षणों की जानकारी प्राप्त करें और समस्या उत्पन्न होने पर सम्बन्धित सीएचसी/पीएचसी/जिला अस्पताल को अवगत कराये, जिससे नवजात बच्चों के मृत्यु दर में कमी लायी जा सके। उन्होंने कहा कि नियमित रुप से आशा एवं आगनबाड़ी कार्यकर्ता को उपरोक्त के सम्बन्ध में कार्यशाला आयोजित कर प्रशिक्षण दिया जाय।  
  इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. लक्ष्मी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. अनिल शर्मा, डा. राजीव यादव, समस्त एमओआईसी उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad