पुलिस के ज्यादतियों के कारण अपने ही घर से बेघर होने पर न्याय के लिये दर दर भटकते पीडित फरियादी - Ideal India News

Post Top Ad

पुलिस के ज्यादतियों के कारण अपने ही घर से बेघर होने पर न्याय के लिये दर दर भटकते पीडित फरियादी

Share This
#IIN 

*पुलिस के ज्यादतियों के कारण अपने ही घर से बेघर होने पर न्याय के लिये दर दर भटकते पीडित फरियादी*

Dharmendra seth



जौनपुर।जिले के मडियांहू थाने के अंतर्गत कस्बे के काजीकोट मौहल्ले मे पन्नालाल व भाईयों के प्रापटी पर पट्टीदार रामकुमार उर्फ बचई पुत्र नरायणदास ने परिवार सहित वर्षो पूर्व अवैध कब्जा कर रखा था।जिस पर न्यायालय के आदेशानुसार न्यायालय अमीन और पुलिस बल की मदद से 16 नवंबर 2018 को रामकुमार को बाहर कर पन्नालाल और उनके भाईयों को पूर्ण न्यायिक रूप से कब्जा दिलाया गया था।
बता दे कि घटना 19 सितंबर 2021 दिन रविवार की बताई जाती है उस दिन पीड़ित के घर महिलाएं घर पर थी जिस पर पड़ोसी पाटीदारों ने दबंगई करके प्रापर्टी पर अवैध कब्जा करना शुरू किया ही था की महिलाओं ने प्रशासनिक मदद की गुहार की पुलिस ने मौके पर पहुंचकर भी अवैध कब्जा रूकवाने के बजाय उल्टे पीड़ित महिलाओं को थाने से लाकर एसएचओ के सामने चार-पांच घंटे बैठा कर अपनी दूसरी टीम के सहयोग से दुकान पर जबरदस्ती अवैध कब्जा करा दिया। मकान में पीड़ित महिलाओं के आभूषण कई हजार नगदी एवं घर गृहस्थी का संपूर्ण सामान था। पीड़ित परिवार की महिलाएं बच्चे पुलिस की हरकतों के कारण अपने ही घर से बाहर होने पर मदद के लिए तहसील मुख्यालय जिला मुख्यालय अन्य कार्यालयों के आज तक चक्कर काट रहे हैं लेकिन पीड़ितों को किसी भी प्रकार की कोई भी मदद नहीं मिल पा रही है गौरतलब है कि नायक रूप से कब्जा पाए प्रार्थी को स्थानीय प्रशासन द्वारा बार-बार प्रसारित करते रहने की हरकतों के कारण हाई कोर्ट इलाहाबाद में अपने 14 जनवरी 2020 के आदेश में पुलिस प्रशासन को एक पंक्ति में किसी भी प्रकार के हस्तक्षेप करने से मना कर रखा था इसके बावजूद पुलिस ने अपने ही अपने ही घर से बाहर होने पर मदद के लिए तहसील मुख्यालय जिला मुख्यालय अन्य कार्यालयों के आज तक चक्कर काट रहे हैं लेकिन पीड़ितों को किसी भी प्रकार की कोई भी मदद नहीं मिल पा रही है गौरतलब है कि नायक रूप से कब्जा पाए प्रार्थी को स्थानीय प्रशासन द्वारा बार-बार प्रताणित करते रहने की हरकतों के कारण हाई कोर्ट इलाहाबाद में अपने 14 जनवरी 2020 के आदेश में पुलिस प्रशासन को उक्त प्रापर्टी में किसी भी प्रकार के हस्तक्षेप करने से मना कर रखा था इसके बावजूद पुलिस ने अपने ही मौजूदगी में दबंगों का अवैध कब्जा दिला दिया। पीड़ित प्रार्थियों को अब तक किसी भी प्रकार की न तो प्रशासनिक मदद मिली और ना ही दबंगों के खिलाफ कोई एफआईआर दर्ज कर उनको न्यायालय के विरुद्ध जाने पर कोई कार्रवाई हुई आज पीड़ित जिला अधिकारी को ज्ञापन देकर अपनी मदद की गुहार लगायी। ज्ञापन देते समय पीड़ित परिवार से सविता जयसवाल संगीता जयसवाल माया जयसवाल निकेता जयसवाल नीरज नीरज जयसवाल मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad