पहले से तय थी तीन नवंबर की तारीख लखीमपुर खीरी। तिकुनिया कांड के मामले में सबसे पहले गिरफ्तार हुए आशीष पांडेय और लवकुश राना की ओर से दी गई जमानत अर्जी सुनवाई के लिए लंबित चली आ रही है। उसमें भी तीन नवंबर की तिथि तय है, इस तरह तीन नवंबर को इस मामले में अब तीन जमानतों की एक साथ सुनवाई तय की गई है। इसी आधार पर आशीष मिश्र की जमानत सुनवाई के लिए जिला अदालत ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट के साथ विवेचक से संपूर्ण केस डायरी तलब की है। संवाद जांच टीम ने सुमित, गुरविंदर समेत पांच को रिमांड पर लिया। - Ideal India News

Post Top Ad

पहले से तय थी तीन नवंबर की तारीख लखीमपुर खीरी। तिकुनिया कांड के मामले में सबसे पहले गिरफ्तार हुए आशीष पांडेय और लवकुश राना की ओर से दी गई जमानत अर्जी सुनवाई के लिए लंबित चली आ रही है। उसमें भी तीन नवंबर की तिथि तय है, इस तरह तीन नवंबर को इस मामले में अब तीन जमानतों की एक साथ सुनवाई तय की गई है। इसी आधार पर आशीष मिश्र की जमानत सुनवाई के लिए जिला अदालत ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट के साथ विवेचक से संपूर्ण केस डायरी तलब की है। संवाद जांच टीम ने सुमित, गुरविंदर समेत पांच को रिमांड पर लिया।

Share This
#IIN

अब 3 नवंबर को होगा फैसला- मंत्री पुत्र की कहां होगी दिवाली,


Kalicharan Gupta शाहजहांपुर,



-】लखीमपुर खीरी। जांच टीम ने बृहस्पतिवार को 219 नंबर एफआईआर के आरोपी सुमित जायसवाल, नंदन सिंह बिष्ट, सत्यम त्रिपाठी, शिशुपाल को दो दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर लिया और उनसे सवाल जवाब किए। वहीं, 220 नंबर एफआईआर में जांच टीम ने पीट पीटकर हत्या मामले में आरोपी गुरविंदर सिंह को तीन दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड में ले लिया। सुमित जायसवाल, नंदन सिंह बिष्ट, सत्यम त्रिपाठी और शिशुपाल 30 अक्तूबर तक पुलिस रिमांड में जबकि, गुरुविंदर सिंह 31 अक्तूबर तक पुलिस कस्टडी रिमांड में रहेंगे। 

30-35 गवाहों को मिले गनर
लखीमपुर खीरी। तिकुनिया कांड में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जांच टीम गवाहों की सुरक्षा व्यवस्था भी पुख्ता कर रही है। मामले में जहां लगातार पूछताछ जारी है। वहीं अदालत के आदेश के बाद सभी गवाहों के 164 के बयान दर्ज करवाए जा रहे हैं। बृहस्पतिवार को भी 10-12 लोग पुलिस लाइन के क्राइम ब्रांच दफ्तर पहुंचे। इस दौरान गवाहों ने बताया कि उन्होंने खुद को खतरा महसूस करते हुए जांच टीम से अपनी सुरक्षा की भी गुहार लगाई है। मामले में भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष दिलबाग सिंह ने बताया कि मंत्री टेनी का पिछला बैकग्राउंड क्या रहा है। हर कोई जानता है। ऐसे में गवाहों की सुरक्षा जरूरी है। उन्होंने बताया कि जांच टीम भी उन गवाहों को सुरक्षा मुहैया करा रही है, जो सुरक्षा चाहते हैं। उन्होंने बताया कि जिनके पास लाइसेंसी हथियार हैं, उनके हथियार जमा कराए जा रहे हैं और उन्हें पुलिस की तरफ से एक गनर दिया जा रहा है। बताया कि 30 से 35 गवाहों को सुरक्षा दी जा रही है। 

पहले से तय थी तीन नवंबर की तारीख
लखीमपुर खीरी। तिकुनिया कांड के मामले में सबसे पहले गिरफ्तार हुए आशीष पांडेय और लवकुश राना की ओर से दी गई जमानत अर्जी सुनवाई के लिए लंबित चली आ रही है। उसमें भी तीन नवंबर की तिथि तय है, इस तरह तीन नवंबर को इस मामले में अब तीन जमानतों की एक साथ सुनवाई तय की गई है। इसी आधार पर आशीष मिश्र की जमानत सुनवाई के लिए जिला अदालत ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट के साथ विवेचक से संपूर्ण केस डायरी तलब की है। संवाद
जांच टीम ने सुमित, गुरविंदर समेत पांच को रिमांड पर लिया।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad