आयुर्वेद में क्या हैं उपाय? जानें, त्योहारी मौसम में उपवास रखने के लिए - Ideal India News

Post Top Ad

आयुर्वेद में क्या हैं उपाय? जानें, त्योहारी मौसम में उपवास रखने के लिए

Share This
#IIN

आयुर्वेद में क्या हैं उपाय? जानें, त्योहारी मौसम में उपवास रखने के लिए 


Dr. Mithilesh Shrivastav


-》 धार्मिक मान्यतों से हटकर क्या उसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं? भले आप धार्मिक विश्वास के तौर पर व्रत रखते हैं, लेकिन इस अभ्यास के बेतहाशा फायदे हैं. आयुर्वेद एक सप्ताह में कम से कम एक बार उपवास की सिफारिश करता है. उपवास रखने का समय आम तौर पर धर्म से जुड़ा होता है. बहुत सारे लोग नवरात्रि की शुरुआत से त्योहारी मौसम के दौरान उपवास करते हैं. उपवास के पीछे धार्मिक मान्यताएं होती हैं. 

नवरात्रि में फूड्स की सिफारिश


आयुर्वेद विशेषज्ञ विकास चावला के मुताबिक नौ दिनों तक चलनेवाले नवरात्रि के पवित्र उपवास में कुछ तरल पदार्थ और जड़ी बूटी की आयुर्वेद तरीके में सिफारिश की जाती है.


जीरा, धनिया, और सौंफ से बनी चाय हर शख्स के लिए फायदेमंद है क्योंकि ये चाय शरीर से टॉक्सिन्स की सफाई में मदद करती है. 


व्रत के दौरान ज्यादातर लोगों के लिए त्रिफला दूसरा शक्तिशाली हर्बल मिश्रण है जो फायदेमंद पाया गया है क्योंकि ये पाचन सिस्टम का समर्थन करता है. 

आयुर्वेद तरीके से प्रभावी उपवास


इसका कारण आपके पेट और पाचन सिस्टम को थोड़ी राहत देना है. एक दिन के लिए हल्का भोजन खाना थकान से रिकवर होने में पाचन तंत्र की मदद करता है. जब कोई शख्स अभ्यास का पालन करता है, तो शरीर, दिमाग की बेहतरी के लिए उचित फूड्स का फैसला करने में सक्षम हो पाता है. आयुर्वेद में उपवास दो तरफा प्रक्रिया है, एक तरफ खराब खाद्य पदार्थों से परहेज का चुनाव तो दूसरी तरफ मुफीद और पोषण, स्वास्थ्य, शरीर और दिमाग की खुशी में योगदान देनेवाले खाद्य पदार्थों को अपनाना. संपूर्ण फायदे हासिल करने के लिए उपवास के सबसे प्रभावी तरीके पर आयुर्वेद में कुछ तरकीब बताई गई है.  





No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad