ग्राम सभा की जमीन पर ग्राम प्रधान का अवैध कब्जा? ग्राम प्रधान भी निकला भूमाफिया - Ideal India News

Post Top Ad

ग्राम सभा की जमीन पर ग्राम प्रधान का अवैध कब्जा? ग्राम प्रधान भी निकला भूमाफिया

Share This
#IIN


ग्राम सभा की जमीन पर ग्राम प्रधान का अवैध कब्जा? ग्राम प्रधान भी निकला भूमाफिया
मोनू महेवा प्रयागराज /फाफामऊ





पूर्व ग्राम प्रधान विजय बहादुर यादव के द्वारा ग्राम सभा की जमीन पर अवैध कब्जा कर अतिक्रमण किया गया है, जब कि वर्तमान समय में उनकी बहू सोनी देवी पत्नी अनिल कुमार यादव ग्राम प्रधान है, जिनकी मिली भगत से ग्राम सभा की जमीन पर भूमाफियाओं के द्वारा अवैध अतिक्रमण कराकर कब्जा कराया गया है, जब कि यही जमीन पर मोहम्मद नईम पुत्र स्वर्गीय हसन हुसैन के पूर्वज पचासों वर्ष से काबिज थे जो कि भूमिहीन ब्यक्ति है, गरीबी और लाचारी के कारण जबरन जमीन शोरेपुस्ती के दम पर कब्जा कर अतिक्रमण किया गया है जिसमें ग्राम प्रधान का भी हिस्सेदारी है, यदि यकीन ना हो तो भूमाफिया अजय पटेल व ग्राम प्रधान विजय बहादुर के नम्बर का सीडीआर निकाल कर पता लगाया जा सकता है, 
पूरे ग्राम सभा में ऐसा कोई ब्यक्ति नही होगा जो ग्राम सभा की जमीन पर कब्जा ना हो, 
यहाँ तक की पूर्व ग्राम प्रधान विजय बहादुर ग्राम सभा की जमीन पर कमरे बनवाकर भाड़े पर दिया हुआ है, यह ऐसा प्रधान है जो पूरे गाँव में झगड़ा फसाद कराने पर आमादा रहता है, गाँव के कुछ लोगों के द्वारा एक दो बीघा ग्राम सभा की जमीन कब्जा किया है और वे चार से पांच बीघे जमीन का मालिक भी है, फिर भी ग्राम सभा की जमीन पर कब्जा है,
गौरिया बस्ती जो कि मुस्लिम बस्ती है यहाँ पर लोग पचासों वर्ष से काबिज है, सिर्फ भाजपा सरकार का डर दिखा कर मुस्लिमों को परेशान किया जा रहा है, फिर भी आज तक कोई उच्चाधिकारी जांच के लिए नही आया, हल्का लेखपाल माता दीन के विरुद्ध किसी भी प्रकार की कार्यवाही नही की गई जिससे मनबढ़ होकर पैसा लेकर रिपोर्ट लगाने का कार्य किया जा रहा है, गाँव के ही भोले तिवारी तथा बच ई महराज लगभग तीन से चार बीघा ग्राम सभा की जमीन कब्जा किये हुए है अपने आवास के पास, इस पर लेखपाल कोई रिपोर्ट नही लगा रहा है, ऐसे ही पूरे गांव में कम ज्यादा करके ग्राम सभा की जमीन कब्जा किया गया है, लेकिन इनके नजर में सिर्फ मुस्लिम बस्ती के असहाय व गरीब लोग ही है क्योंकि ये लोग पैसा देने के लायक नहीं हैं, 
यदि उच्चाधिकारियों के द्वारा निष्पक्ष जाँच कराई जाय तो उपरोक्त बाते सही साबित होगी, 
ग्राम प्रधान विजय बहादुर यादव जो कि सपा सरकार में लोगों से कालोनी के पीछे तीस से चालीस हजार रूपये की अवैध वसूली कर पोकलैण्ड हिटची कम्पनी की खरीदी गई है यदि आय से अधिक सम्पत्ति की जांच कराया जाय तो सबसे बडे़ भ्रष्ट ग्राम प्रधान के रूप में लोग जानने व पहचानने लगेगे, विजय बहादुर दो पंचवर्षी प्रधान होने के बाद ही से धनकुबेरों की सूची में आने लगे हैं, ग्राम प्रधान होने से पहले एक साधारण विद्यालय मास्टर थे जो साइकिल से आया जाया करते थे लेकिन आज गाँव के विकास के पैसे से दो जेसीबी, एक पोकलैण्ड, चार पहिया कार ब्रेजा, दो बीघे में बना घर जो की पूरा जीएस लैण्ड है तथा कथित, कीमती जमीने भी खरीदी गई है जो फाफामऊ क्षेत्र में है, इनके ऊपर किसी भी प्रकार का जांच नही कराया जाता पैसा देकर निपटारा हो जाता है, इन्ही के परिवार के सदस्य द्वारा जानकारी दी गई कि यदि इनके चल और अचल सम्पत्ति की जांच की जाए तो ये भी सलाखों के पीछे नजर आएंगे, इनसे बडा़ कोई भ्रष्टाचारी ग्राम प्रधान क्षेत्र में नही पाया जाएगा,

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad