बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी बनाए जाने को बताया नियम विरुद्ध-महंत नरेंद्र गिरि की वसीयत पर फिर उठे सवाल, - Ideal India News

Post Top Ad

बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी बनाए जाने को बताया नियम विरुद्ध-महंत नरेंद्र गिरि की वसीयत पर फिर उठे सवाल,

Share This
#IIN

बलवीर गिरि को उत्तराधिकारी बनाए जाने को बताया नियम विरुद्ध-महंत नरेंद्र गिरि की वसीयत पर फिर उठे सवाल, 

Atpee mishra- prayagraj



-》 वसीयत पर बकायदा अखाड़े के दो सदस्यों का दस्तखत बतौर गवाह दर्ज होता है, लेकिन नरेंद्र गिरि के पत्र में इस तरह का कोई गवाह नहीं है। जिसको बतौर गवाह पेश करने का प्रयास किया गया है उनका अखाड़ा और संन्यास जीवन से कुछ लेना देना नही है। 

उप महंत बलवीर गिरि की ताजपोशी के पहले अखाड़े में फिर विरोध के स्वर उठने लगे हैं। कई संतों ने बलवीर को उत्तराधिकारी बनाए जाने को सरासर गलत बताते हुए मठ चलाने के लिए नियम के अनुसार किसी संत का चयन करने की सलाह दी है। संतों ने महंत नरेंद्र गिरि के द्वारा ब्रह्मलीन होने से पहले लिखे गए कथित पत्र को मात्र सुसाइड नोट माना है, इसे वसीयत मानने से साफ इनकार कर दिया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad