1715 मेगावाट की थर्मल इकाइयां बंद- संकट से निपटने के लिए यूपी ने खरीदी 1.60 करोड़ यूनिट बिजली, - Ideal India News

Post Top Ad

1715 मेगावाट की थर्मल इकाइयां बंद- संकट से निपटने के लिए यूपी ने खरीदी 1.60 करोड़ यूनिट बिजली,

Share This
#IIN

1715 मेगावाट की थर्मल इकाइयां बंद- संकट से निपटने के लिए यूपी ने खरीदी 1.60 करोड़ यूनिट बिजली,

Hariom singh swaraj- lucknow,



-》 कोयले की कमी के चलते प्रदेश में 1715 मेगावाट की थर्मल इकाइयों को बंद रखा गया है। यही नहीं, जहां कोयला है वहां भी संयंत्रों को कम क्षमता पर चलाया जा रहा है। फिलहाल कोयला संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है, जिसके चलते पूरे प्रदेश में घोषित और अघोषित बिजली कटौती हो रही है। इस संकट से निकलने के लिए ही पावर कॉर्पोरेशन ने इंडियन एनर्जी एक्सजेंच से बिजली खरीदी।

कोयले की कमी के चलते पैदा हुए बिजली संकट से निपटने के लिए यूपी पावर कॉर्पोरेशन को मंगलवार को 1.60 करोड़ यूनिट बिजली खरीदनी पड़ी। लोगों को राहत देने के लिए कॉर्पोरेशन को औसत से करीब दोगुनी दर 15.84 रुपये/यूनिट के हिसाब से बिजली खरीदनी पड़ी। सामान्यत: कॉर्पोरेशन सात से आठ रुपये प्रति यूनिट की दर पर बिजली खरीदता रहा है, लेकिन संकट के चलते इसके दाम आसमान पर हैं।

नई रैक के लिए भेजी डिमांड
प्रदेश के विद्युत संयंत्रों में कोयले की नई रैकों की व्यवस्था की जा रही है। रेलवे के जरिए पारीछा के लिए एनसीएल से डेढ़ रैक, बीसीसीएल से दो रैक तथा सीसीएल से एक रैक की डिमांड की गई है। हरदुआगंज के लिए बीसीसीएल से आधी रैक तथा सीसीएल से डेढ़ रैक, ओबरा के लिए एनसीएल से चार रैक प्रतिदिन तथा अनपरा के लिए भी एमजीआर के द्वारा रैक की डिमांड की गई है। हालांकि हरदुआगंज और पारीछा को कोयला मिला, पर उसकी मात्रा इतनी ही है कि संयंत्र कम क्षमता पर चलता रहे और बंद न हो।

बिजली संयंत्रों में कम है कोयले का स्टॉक
हरदुआगंज में 12,039 मीट्रिक टन कोयले का स्टॉक है। इससे मात्र डेढ़ दिन ही काम चलेगा। वहीं, पारीछा में 14,803 मीट्रिक टन स्टॉक है, जिससे एक दिन उत्पादन हो सकेगा। ओबरा में 35,278 मीट्रिक टन के स्टॉक से ढाई दिन संयंत्र चलेगा, जबकि अनपरा में 69,190 मीट्रिक टन कोयला है। इससे संयंत्र दो दिन और चलाया जा सकता है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad