विद्युत संविदा कर्मियों का पूर्वांचल प्रबंध निर्देशक कार्यालय पर एक दिवसीय धरना। - Ideal India News

Post Top Ad

विद्युत संविदा कर्मियों का पूर्वांचल प्रबंध निर्देशक कार्यालय पर एक दिवसीय धरना।

Share This
#IIN 

विद्युत संविदा कर्मियों का पूर्वांचल प्रबंध निर्देशक कार्यालय पर एक दिवसीय धरना।

जयचन्द जलाली पट्टी वाराणसी




वाराणसी- पूर्वांचल विद्युत संविदा मजदूर संघ अखिल भारतीय विद्युत मजदूर महासंघ एवं भारतीय मजदूर संघ द्वारा पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड वाराणसी के प्रबंधक निर्देशक कार्यालय पर हजारों की संख्या में विद्युत संविदा /ठेका को लेकर मजदूरों ने विशाल धरना दिया धरने में वक्ताओं ने कहा कि विद्युत प्रबंधन संविदा/ ठेका कर्मियों की समस्याओं पर उदासीन है आए दिन सुरक्षा उपकरण के अभाव में कार्य करते समय दुर्घटनाएं घट रही हैं विद्युत दुर्घटनाओं में मृत कर्मचारियों के आश्रितों को विभाग द्वारा मृतक क्षतिपूर्ति के नाम पर ₹5 लाख रुपये की बीमा राशि दी जाती है जो कि बहुत ही कम है इस राशि को 20 लाख रुपया किया जाए तथा आश्रित परिवार के भरण-पोषण की व्यवस्था की जाए। संविदाकर द्वारा संविदा कर्मियों का आज भी शोषण किया जा रहा है संविदाकार संविदा कर्मियों को समय से पूरा वेतन नहीं दे रहा है ईपीएफ और ईएसआईसी का पैसा नियमित रूप से नहीं जमा किया जा रहा है संविदा कर्मियों को मौसम के अनुरूप वर्दी भी उपलब्ध नही कराई जा रही है लेबर एक्ट के तहत संविदा कर्मी को बोनस का प्रावधान है। परंतु कितने दिनों से विभाग में अनुरक्षण और उपकेंद्र परिचालन मीटर रीडर कैश काउंटर लोडिंग अनलोडिंग ट्रांसफार्मर आदि क्षेत्रों में व्यवस्था चल रही थी अभी तक इन संविदा/ ठेका कर्मियों को बोनस की परिधि में नहीं लिया गया है एवं संविदा कर्मियों का 2019 से के पहले के बकाये वेतन का भी भुगतान प्रबंध निर्देशक कार्यालय के अधीनस्थ सभी खण्डों के कर्मियों का अर्जित देय वेतन  बकाया भुगतान दो वर्ष बीत जाने के बाद भी नहीं दिया गया जिसके सम्बन्ध में अनेकों बार पत्र के माध्यम से प्रबंध निर्देशक पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड वाराणसी को दिया गया जिसमें अभी तक किसी प्रकार की पहल नहीं किया गया मुख्य वक्ता अखिल भारतीय संविदा /ठेका प्रभारी माननीय विरेंद्र कुमार ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा ठेकेदारी प्रथा समाप्त कर हरियाणा सरकार की तर्ज पर एक निगम का गठन करना चाहिए जिसमें ठेकेदारी प्रथा समाप्त कर सरकार निगम द्वारा वेतन व अन्य सुविधाओं का प्रावधान करना चाहिए जिससे इन संविदा कर्मियों का शोषण बंद हो सके और न्याय मिल सके। पूर्वांचल विद्युत संविदा मजदूर संघ के महामंत्री ने कहा संविदा कर्मियों को रखने का अनुबंध जो विभाग द्वारा किया जाता है वह प्रबंध निर्देशक पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड वाराणसी के कार्यालय स्तर से होना चाहिए क्योंकि दो साल पहले मंण्डल स्तर से अनुबंध होते थे जिनमें संविदा कारों द्वारा संविदा कर्मियों का शोषण होता था वर्तमान में वही प्रक्रिया अपनाई जा रही है जो संविदा कर्मियों के हित में नहीं है। संघ सरकार से मांग करता है कि उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में भी तेलंगाना प्रदेश की तरह संविदा /ठेका कर्मियों को रिक्त पदों पर उनकी योग्यता के आधार पर नियमित किया जाए।अन्त में पूर्वांचल विद्युत संविदा मजदूर संघ के अध्यक्ष श्री राजेश सिंह द्वारा धरना प्रदर्शन में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के सभी अंचलों के विभिन्न जिलों में आए पदाधिकारियों को कार्यकर्ताओं के प्रतिनिधित्व पर आभार व्यक्त करते हुए उत्तर प्रदेश विद्युत मजदूर संघ एवं विद्युत कार्यालय कार्मिक संघ उत्तर प्रदेश और जिला मजदूर संघ कार्यालय जिला कार्यसमिति के नैतिक समर्थन पर भी आभार व्यक्त किया सभा में उत्तर प्रदेश विद्युत मजदूर संघ के महामंत्री श्री राजेंद्र सिंह, एके श्रीवास्तव अध्यक्ष विद्युत कार्यालय कार्मिक संघ उत्तर प्रदेश भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र मिश्रा उप महामंत्री भारतीय रेल मजदूर संघ चौबे बलिया अध्यक्ष रामकृष्ण गुप्ता संभव प्रमुख राकेश पांडे विभाग प्रमुख जिला अध्यक्ष जमुना पाल मनोज जायसवाल राजेश सिंह उपाध्यक्ष गोरखपुर छोटेलाल मंत्री गोरखपुर दिनेश यादव चंदौली पंकज जिला मंत्री दिनेश कुमार उपाध्याय पू०वि०स०म० संघ वाराणसी दिनेश यादव जिला मंत्री जौनपुर लालजी प्रधान भदोही सुधीर पाल, विनय यादव, विजय विश्वकर्मा, संदीप सिंह, दीपक प्रजापति ,अलंकार मिश्रा, महेंद्र मौर्या, मनोज यादव, मनीष सिंह, योगेश सिंह, चंद्रभूषण, कुंजबिहारी आदि प्रमुख कार्यकर्ताओं ने अपने विचार दिए।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad