झारखंड की बेटी ने पाक के पीएम को यूएन में दिया करारा जवाब - Ideal India News

Post Top Ad

झारखंड की बेटी ने पाक के पीएम को यूएन में दिया करारा जवाब

Share This
#IIN

कमल कुमार कश्यप 
रांची झारखंड बिहार

 झारखंड की बेटी ने पाक के पीएम को यूएन में दिया करारा जवाब 



पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के संबोधन के बाद राइट टू रिप्लाई के तहत भारत के तरफ से करारा जवाब देने वाली स्नेहा दुबे का झारखंड से गहरा नाता है| उनका बचपन जमशेदपुर में बीता है, स्नेहा के पिता जेपी दुबे जमशेदपुर के केबल कंपनी में इंजीनियर थे |उनका पूरा परिवार केवल टाउन स्थित क्वार्टर में रहता था| स्नेहा दुबे के नाना भी केबल कंपनी के चीफ अकाउंटेंट के पद पर कार्यरत थे |स्नेहा के  मामा विनोद तिवारी तीनप्लेट कंपनी में अकाउंटेंट के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं| वर्तमान में गोलमुरी के झालदा बस्ती स्थित मधुसूदन अपार्टमेंट में रहते हैं| आई एफ एस बनने के बाद सबसे पहले 2012 में अपने ननिहाल में आशीर्वाद लेने पिता के साथ पहुंची थी |बताया जाता है कि स्नेहा दुबे इमरान खान के कश्मीर मुद्दे का राग अलापने के बाद भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे इस कदर प्रतिक्रिया दी कि इमरान खान  भौचक रह गए उन्होंने कहा आतंकवाद पर पाकिस्तान की नापाक नीतियों का खामियाजा पूरी दुनिया को भुगतना पड़ा है | पाकिस्तान एक ऐसा देश है जहां आतंकवादी बेरोक को घूमते हैं | आतंकवादियों के लिए पाकिस्तान सुरक्षित ठिकाना है या अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी सरगना ओसामा बिन लादेन को शहीद बताता है| वास्तव में पाकिस्तान आग भड़काने वाला देश है | जबकि खुद को आग बुझाने वाले के रूप में पेश करने का दिखावा करता है | संयुक्त राष्ट्र में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा की पाकिस्तान के नेता द्वारा भारत के आंतरिक मामलों को विश्व मंच पर लाने और झूठ फैलाने इस प्रतिष्ठित मंच की छवि खराब करने की एक और प्रयास के प्रत्युत्तर में हम जवाब देने के अपने अधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं|
 इसी क्रम में उन्होंने कहा कि भारत के खिलाफ सीमा पार आतंकवाद को रोकने के लिए ईमानदारी से काम करें पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित सर्वाधिक आतंकवादियों को रखने का घटिया रिकॉर्ड पाकिस्तान के पास | पाकिस्तान में भय के साए में जीने और राजपुरोहित दमन के शिकार है |अल्पसंख्यक सिख, हिंदू, ईसाईं, समुदाय के लोग पाकिस्तान के नेतृत्व द्ववारा यहूदी विरोधी बाद को समान बताया जाता है और इसे उचित ठहराया जाता है| भारत अल्पसंख्यकों की पर्याप्त आबादी वाला एक बहुलवादी लोकतंत्र है |भारत में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीशों, सहित सर्वोच्च पदों पर अल्पसंख्यकों ने कार्य किया है| भारत स्वतंत्र मीडिया और स्वतंत्र न्यायपालिका वाला देश है| जो हमारे संविधान पर नजर रखते हैं और उसकी रक्षा करते हैं |
वहीं पाकिस्तान आतंकवादियों का खुले तौर पर समर्थन करता है| उन्हें प्रशिक्षण देता है ,उन्हें धन मुहैया कराता है, और उन्हें हथियार देता है | पाकिस्तानी नेतृत्व ओसामा बिन लादेन को आज भी शहीद के रूप में महिमामंडित करता है |

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad