बरेका कर्मचारियों ने मुद्रीकरण का किया विरोध, कारखाने के द्वार पर किया प्रदर्शन - Ideal India News

Post Top Ad

बरेका कर्मचारियों ने मुद्रीकरण का किया विरोध, कारखाने के द्वार पर किया प्रदर्शन

Share This
#IIN 

बरेका कर्मचारियों ने मुद्रीकरण का किया विरोध, कारखाने के द्वार पर किया प्रदर्शन,

DR. U.S Bhagat




वाराणसी । भारत सरकार के मुद्रीकरण नीति के तहत भारतीय रेल की मूल्यवान संपत्तियों को चंद उद्योगपतियों के हाथ गिरवी रखने के विरोध में ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन, नई दिल्ली के आवाहन पर डीएलडब्लू मेंस यूनियन के बैनर तले बरेका कारखाने के पश्चिमी द्वार पर प्रचंड विरोध दिवस का आयोजन किया गया। आयोजन के तहत लंच आवर में हजारों की संख्या में बरेका कर्मी कारखाने के पश्चिमी द्वार पर एकत्रित हुए। जिसके बाद सभा का आयोजन किया गया। सभा को संबोधित करते हुए डीएलडब्लू मेंस यूनियन के महामंत्री अरविंद श्रीवास्तव ने कहा भारत सरकार जिस प्रकार से मौद्री करण के बहाने भारतीय रेलवे की मूल्यवान संपत्तियों को अपने चंद पूंजीपति साथियों के हवाले करना चाहती है उसे यूनियन किसी भी कीमत पर सफल नहीं होने देगी,महामंत्री ने कहा कि सरकार ने पहले तो 100 दिन ऐक्शन प्लान के तहत,रेलवे को क्वांटम जंप देने की बात कहकर एक अध्ययन की बात की थी।लेकिन अब धीरे धीरे सरकार का मंसूबा साफ होने लगा है।अब उसी निजीकरण को मौद्रीकरण का नाम देकर देश के लोगो को भ्रमित करने का कार्य कर रही है। जिससे लाखो रेल कर्मियों के ऊपर रोजी रोटी का संकट आने की पूर्ण संभावना है जिसे यूनियन किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेगी। जरूरत पड़ी तो यूनियन केंद्रीय नेतृत्व का निर्देश आते ही हड़ताल पर जाने से गुरेज नहीं करेगी। सभा को संबोधित करते हुए एआईआरएफ के जोनल सेक्रेट्री डॉक्टर प्रदीप शर्मा ने कहा कि जब से ये सरकार बनी है अनवरत मजदूर और किसानों के साथ अनवरत साजिश करने का कार्य कर रही है।कभी लेबर कानूनों में बदलाव ,तो कभी कृषि कानूनों में बदलाव से सरकार का मजदूर और किसान विरोधी चेहरा साफ दिखने लगा है।भारत सरकार किस प्रकार से मौद्रीकरण के नाम पर रेल कि उत्पादन इकाई को निगम बनाने का काम हो। चाहे रेल की अन्य संपत्तियों को औने पौने दामों में बेचने का काम हो। सिर्फ इसी साजिश में अनवरत लगी हुई है। जिसके लिए ए आई आर एफ ने आंदोलन का बिगुल फुक दिया है और सरकार नहीं मानी तो यूनियन को कड़े निर्णय लेने पर मजबूर होना पड़ेगा।सभा को अरविन्द प्रधान, अजय कुमार, नरेंद्र सिंह भंडारी, आशुतोष कुमार, रंजीत सिंह, त्रिलोकी नाथ सिंह, नवीन राय, एस पी राय, रूपेश सिन्हा, आलोक राय, शिव बालक, रवि शंकर सिंह, संजय शुक्ला, रूप सिंह मीणा, मनोज कुमार, एससी एसटी एसोसिएशन के महासचिव सरदारा सिंह, बी.डी.दुबे, संयुक्त सचिव धर्मेन्द्र सिंह, नवीन सिन्हा, प्रदीप यादव, सुशील सिंह ने संबोधित किया। सभा का संचालन यूनियन के संयुक्त मंत्री अरविन्द प्रधान और अध्यक्षता अजय कुमार ने किया।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad