आयुष्मान कार्ड न होता तो बेचना पड़ता खेत - Ideal India News

Post Top Ad

आयुष्मान कार्ड न होता तो बेचना पड़ता खेत

Share This
#IIN

आयुष्मान कार्ड न होता तो बेचना पड़ता खेत 

Dharmendra Seth




जौनपुर। बुधवार की शाम 3.30 बजे शहर के पार्थ अस्पताल में भर्ती आयुष्मान भारत आरोग्य योजना के तहत भर्ती मरीज रामधनी से केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडिया ने वीडियो कांफ्रेंस की। उन्होंने पूछा कैसे चोट लगी तो रामधनी ने कहा कि साइकिल से गिर गया, यदि आयुष्मान कार्ड न होता तो इलाज के लिए खेत बेचना पड़ता। 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री  ने पूछा कि आपकी सालाना आमदनी क्या है, जवाब मिला कि उतना ही खेत है जिससे आधा दर्जन परिवार का किसी तरह पेट भर जाता है। डॉक्टर के बारे में पूछा तो बताया कि डॉ सुभाष सिंह के यहां अच्छा इलाज, भोजन व सभी सुविधाएं मिलती हैं। मंत्री ने डॉ सुभाष सिंह से कहाकि आयुष्मान कार्डधारकों को कोई परेशानी न होने पाए। अब तक आपने कितने मरीजों का इलाज किया तो बताया कि 153 के ऑपरेशन और कई के सामान्य दवाएं चलीं।
जलालपुर जौनपुर के लालपुर उत्तर प्रदेश निवासी रामधनी ही 18 अगस्त के सेशन में देश के एक मात्र मरीज थे जिनसे प्रधानमंत्री की ओर से केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडिया ने बात की। इससे पूर्व पार्थ अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ सन्तोष मौर्य एवं आयुष्मान मरीजों की जिम्मेदारी संभालने वाली स्टाफ मोनी मौर्या ने मंत्री से बात करने के लिए तैयार कर दिया था। वीडियो कांफ्रेंस के दौरान आयुष्मान भारत योजना के नोडल अफ़सर एवं एडिशनल सीएमओ डॉ आर के सिंह व उनकी टीम के हिमांशु शेखर सिंह, डॉ बद्री विशाल पांडेय भी मौजूद रहे। मंत्री ने उनसे भी व्यवस्थागत बात की।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad