दुर्गावती नदी उफान पर कई घरों में घुसा पानी मोनू कश्यप ने लगाया प्रशासन से मदद की गुहार - Ideal India News

Post Top Ad

दुर्गावती नदी उफान पर कई घरों में घुसा पानी मोनू कश्यप ने लगाया प्रशासन से मदद की गुहार

Share This
#IIN

दुर्गावती नदी उफान पर कई घरों में घुसा पानी मोनू कश्यप ने लगाया प्रशासन से मदद की गुहार 

दीपक कुमार गुप्ता जिला ब्यूरो चीफ कैमूर




कैमूर जिले के दुर्गावती नदी इन दिनों काफी उफान पर चल रही है नदी का जलस्तर बढ़ने से नदी के तटवर्ती गांव में और दुर्गावती बाजार के दक्षिणी मोहल्ले के कई घरों में पानी घुस चुका है और वहीं दूसरी तरफ सैकड़ों एकड़ धान की फसलें पानी से डूब चुकी है जहां किसानों ने कड़ी मेहनत करके धान की रोपनी कराया था और वही पानी में धान की फसल डूबने से किसानों के चेहरे पर काफी मायूसी छाई हुई है। किसानों के मेहनत पर पानी फिरता नजर आ रहा है माने किसानों के ऊपर पहाड़ टूट पड़ा है। दुर्गावती बाजार निवासी मोनू कुमार कश्यप पिता स्वर्गीय सुरेश प्रसाद कश्यप ने बताया कि दुर्गावती नदी के उफान से हमारा घर चारों तरफ से पानी से घिर चुका है साथ ही कई घरों में पानी घुस गया है जिससे पूरा परिवार मुसीबत का दंश झेल रहा है। घर में पानी घुस जाने से परिवार घर छोड़कर बाहर रहने को मजबूर एवं विवश है मजे की बात तो यह है कि भोजन पर भी आफत आ गई है। खाद्य सामग्री के साथ गैस चूल्हा तक भी घर में ही बंद पड़ा हुआ है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बता दें कि वहीं दूसरी तरफ कर्मनाशा नदी का भी जलस्तर बढ़ रहा है। जहां ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। दुर्गावती क्षेत्र ही नहीं बल्कि मोहनिया अनुमंडल शहर के चारों तरफ बाढ़ के पानी से जलमग्न हो चुका है और मोहनिया कोर्ट परिसर में भी पानी भर चुका है चारों तरफ जल ही जल दिखाई दे रहा है जिससे नदी के तटवर्ती इलाके के ग्रामीण काफी भयभीत नजर आ रहे हैं। और वही ग्रामीणों ने बिहार सरकार से मदद की मांग किया है। इस सम्बंध में दुर्गावती अंचल पदाधिकारी लक्ष्मण कुमार सिंह से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि बढ़ रहे जल स्तर पर हम लोग नजर बनाए हुए हैं ग्रामीणों का हर संभव मदद किया जाएगा।वही जिले के रामगढ,नुआंव के अलावा कई अन्य क्षेत्रों में फसल के साथ साथ लोगों का जन जीवन अस्त व्यस्त बना हुआ है।बाढ़ के पानी द्वारा  पूरे जिले में सैकड़ो एकड़ फसल बर्बाद हो चुकी है, अगर जल स्तर और बढ़ता है तो और नुकसान होने की संभावना जताई जा सकती है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad