नाभी कुदरत की एक अद्भुत देन है,आँख व अन्य रोग का चमत्कारी इलाज सम्भव! - Ideal India News

Post Top Ad

नाभी कुदरत की एक अद्भुत देन है,आँख व अन्य रोग का चमत्कारी इलाज सम्भव!

Share This
#IIN

डा प्रमोद वाचस्पति जौनपुर
नाभी कुदरत की एक अद्भुत देन है,आँख व अन्य रोग का चमत्कारी इलाज सम्भव! 
 



एक 62 वर्ष के बुजुर्ग को अचानक बांई आँख  से कम दिखना शुरू हो गया, खासकर  रात को नजर न के बराबर होने लगी, जाँच करने से यह निष्कर्ष निकला कि उनकी आँखे ठीक है परंतु बांई आँख की रक्त नलीयाँ सूख रही  है रिपोर्ट में यह सामने आया कि अब वो जीवन भर देख  नहीं पायेंगे....
  
Naturopath के बोलने पर  उन्होंने अपनी नाभि में रोज़ाना देसी गाय का घी डालना सुरु कर दिया कुछ ही दीनो में सूख रही नस ठीक हो कर आँखों की रोशनी वापिस आ गई।


मित्रों हमारा शरीर परमात्मा की अद्भुत देन है...गर्भ की उत्पत्ति नाभी के पीछे होती है और उसको माता के साथ जुडी हुई नाडी से पोषण मिलता है और इसलिए मृत्यु के तीन घंटे तक नाभी गर्म रहती है,

 गर्भधारण के नौ महीनों अर्थात 270 दिन बाद एक सम्पूर्ण बाल स्वरूप बनता है। नाभी के द्वारा सभी नसों का जुडाव गर्भ के साथ होता है। इसलिए नाभी एक अद्भुत भाग है।
 
नाभी में गाय का शुध्द घी या तेल लगाने से बहुत सारी शारीरिक दुर्बलता का उपाय हो सकता है,

1. आँखों का शुष्क हो जाना, नजर कमजोर हो जाना, चमकदार त्वचा और बालों के लिये उपाय...

 सोने से पहले 3 से 7 बूँदें शुध्द घी और नारियल के तेल नाभी में डालें और नाभी के आसपास डेढ ईंच  गोलाई में फैला देवें,

2. घुटने के दर्द में उपाय

 सोने  से पहले तीन से सात बूंद इरंडी का तेल नाभी में डालें और उसके आसपास डेढ ईंच में फैला देवें,

3. शरीर में कमपन्न तथा जोड़ोँ में दर्द और शुष्क त्वचा के लिए उपाय

 रात को सोने से पहले तीन से सात बूंद राई या सरसों कि तेल नाभी में डालें और उसके चारों ओर डेढ ईंच में फैला देवें,
  
4. मुँह और गाल पर होने वाले पिम्पल के लिए उपाय

 नीम का तेल तीन से सात बूंद नाभी में उपरोक्त तरीके से डालें,

 नाभी में तेल डालने का कारण 

हमारी नाभी को मालूम रहता है कि हमारी कौनसी रक्तवाहिनी सूख रही है,इसलिए वो उसी धमनी में तेल का प्रवाह कर देती है,

जब बालक छोटा होता है और उसका पेट दुखता है तब हम हिंग और पानी या तैल का मिश्रण उसके पेट और नाभी के आसपास लगाते थे और उसका दर्द तुरंत गायब हो जाता था बस यही काम है तेल का,

घी और तेल नाभी में डालते समय ड्रापर का प्रयोग करें, ताकि उसे डालने में आसानी रहे

अपने स्नेहीजनों, मित्रों और परिजनों में इस नाभी में तेल और घी डालने के उपयोग और फायदों को शेयर करिये,

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad