तालाब की भूमि पर फर्जी इंद्राज पर मुकदमा दर्ज - Ideal India News

Post Top Ad

तालाब की भूमि पर फर्जी इंद्राज पर मुकदमा दर्ज

Share This
#IIN

जौनपुर:- तालाब की भूमि पर फर्जी इंद्राज पर मुकदमा दर्ज

Naseem  Ahmad Ansari  and Shohrat Ali 


जौनपुर। जिले में मछलीशहर के कस्बा घिसुआ खास में (बरईपार चौराहा) तालाब की भूमि पर भूमाफियाओं की ओर से तत्कालीन लेखपाल की मिली भगत से सरकारी तालाब को नान जेड में परिवर्तित कर अपने साथ पूरे खानदान का नाम दर्ज कराकर उसे बेचने पर मुकदमा दर्ज किया गया है।
       बताया जाता है कि तहसील मछली शहर के अंतर्गत कस्बा घिसुआ खास में आराजी नंबर 1931 /2 एकड़ 62 डिसमिल जो जमीनदारी टूटने के समय अर्थात 1 जुलाई 1952 में सरकारी तालाब खाते में अंकित रहा और 1387 फसली में यानी 1980 तक सरकारी तालाब खाते में अंकित रहा। इस पर नगर के ही कुछ भू माफियाओं की नजर तालाब पड़ी।
      आरोप है कि जेड के तालाब को राजस्व कर्मियों को साजिश में लेकर सरकारी अभिलेखों में हेराफेरी कर नान जेड खाते में परिवर्तित कर नगर के कटरा मोहल्ला निवासी हरिमोहन सिन्हा पुत्र स्वर्गीय शंभूनाथ सिन्हा ने पूरे खानदान का नाम तालाब की भूमि पर दर्ज करा दिया। इसमें तत्कालीन हल्का लेखपाल हजारीलाल की भूमिका महत्वपूर्ण मानी जा रही है। उक्त तालाब पर दर्ज नाम के आधार पर उसकी भूमि कई लोगों के नाम विक्रय कर दिया गया। 
     इसकी जानकारी होने पर सर्व फाउंडेशन के पदाधिकारियों ने उपजिलाधिकारी मछलीशहर के न्यायालय में 2014 में एक वाद दाखिल किया। उप जिलाधिकारी ने 2 साल के सुनवाई के बाद और खाते में दर्ज नाम हरिमोहन सिन्हा के बयान के आधार पर 16 मई 2016 को खतौनी में दर्ज फर्जी नामों को निरस्त करते हुए तालाब खाते में दर्ज कर दिया। इसके खिलाफ अन्य खातेदारों ने आयुक्त वाराणसी मंडल वाराणसी के न्यायालय में निगरानी दाखिल किया। 4 वर्षों तक सुनवाई करने के बाद आयुक्त द्वारा 30 जनवरी 2021 को अपील खारिज करते हुए उप जिलाधिकारी मछली शहर के आदेश को बरकरार रखा। इसके बावजूद भी हरिमोहन सिन्हा द्वारा उप जिलाधिकारी मछली शहर के न्यायालय में यह कह कर तजविसानी दाखिल किया कि उक्त तालाब हमारी निजी तालाब की भूमि है। इस पर सर्वगूंज फाउंडेशन के प्रबन्धक आलोक विश्वकर्मा ने 3 अगस्त को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जौनपुर के न्यायालय में धारा 156 (3 )के तहत प्रार्थना पत्र दिया। इस पर मामले को गंभीर मानते हुए न्यायालय ने 19 अगस्त को थानाध्यक्ष मछलीशहर को आदेशित किया कि सात दिन के अन्दर मुकदमा दर्ज कर न्यायालय को अवगत कराये। कोर्ट के निर्देश पर थानाध्यक्ष मछलीशहर ने हरिमोहन सिन्हा पुत्र स्व. शम्भूनाथ सिन्हा व तत्कालीन हल्का लेखपाल हजारीलाल के खिलाफ धारा 419, 420, 467, 468, 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad