स्वास्थ्य विभाग की सलाह, कभी भी न खाएं बासी भोजन - Ideal India News

Post Top Ad

स्वास्थ्य विभाग की सलाह, कभी भी न खाएं बासी भोजन

Share This
#IIN

स्वास्थ्य विभाग की सलाह, कभी भी न खाएं बासी भोजन

डा मिथिलेश श्रीवास्तव जौनपुर




*मौसम के मद्देनजर तथा आयोजनों में बचे भोजन से फूड प्वायजनिंग की आशंका के चलते कर रहा जागरूक*

*-भोजन और पानी की स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें, झाड़-फूंक से बचें, दिक्कत हो तो तुरंत अस्पताल जाएं*


*जौनपुर, 14/08/2021।*

बरसात के मौसम तथा आयोजनों में बचे भोजन से फूड प्वायजनिंग की आशंका के चलते स्वास्थ्य विभाग लोगों को बासी भोजन नहीं खाने की सलाह दे रहा है। नलों का पानी भी दूषित होने की आशंका रहती है, इसलिए साफ पानी पीने की सलाह दे रहा है।

   सीएमओ डॉ लक्ष्मी सिंह का कहना है कि अक्सर आयोजनों में बचे भोजन को लोग अगले दिन गरीब परिवारों में बांट देते हैं जिससे समस्या खड़ी हो जाती है। चार घंटे से ज्यादा समय पहले बना खाना फूड प्वायजनिंग के लिए स्थितियां तैयार करता है और समस्या पैदा कर सकता है। इसलिए कभी भी बासी भोजन न खाएं। बहुत मजबूरी होने पर उसे गर्म कर खाएं। साथ ही स्वास्थ्य संबंधी कोई दिक्कत होने पर तुरंत नजदीक के अस्पताल पहुंचें और झाड़-फूंक में समय बर्बाद न करें।

  वहीं मछलीशहर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी चिकित्साधिकारी (एमओआईसी) डॉ राजेंद्र विश्वकर्मा कहते हैं कि फूड प्वायजनिंग की दिक्कत होने पर मछलीशहर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचने पर इलाज के लिए सारे ऊपकरण और दवाएं मौजूद हैं। अन्य प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी इलाज की हर सुविधा है। वह क्षेत्र के लोगों को सलाह देते हैं कि कभी भी स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत हो तो झाड़-फूंक के पीछे न पड़ें। तुरंत 108 नम्बर एम्बुलेंस बुलाएं और नजदीक के अस्पताल पहुंच जाएं। दिक्कत होने के बाद तुरंत अस्पताल पहुंचने पर मरीज के बचा पाने की ज्यादा संभावना रहती है। झाड़-फूंक में समय गंवाना खतरे को न्योता देने जैसा है। 

   उन्होंने बताया कि इसके बारे में जागरूक करने के लिए वहां की आशा कार्यकर्ता, आशा संगिनी और एएनएम को भेजकर लोगों को ताजा भोजन खाने, बहुत मजबूरी होने पर ही चार घंटे से ज्यादा का भोजन लेने और उसे गर्म करके ही खाने की सलाह दे रहे हैं। हमेशा साफ पानी पीने की सलाह दे रहे हैं।  उन्होंने कहा कि यदि पीने के पानी में जरा भी अशुद्धियां होने का शक है तो गांव के लोग पंचायत राज विभाग और शहर के लोग जल निगम को शिकायत कर पानी की शुद्धता की जांच करा सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad