मायावती ने कहा- अच्छे दिनों की उम्मीद में गरीबों ने लंबा समय काटा, प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी को जातीय सम्मेलन कहने पर आपत्ति - Ideal India News

Post Top Ad

मायावती ने कहा- अच्छे दिनों की उम्मीद में गरीबों ने लंबा समय काटा, प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी को जातीय सम्मेलन कहने पर आपत्ति

Share This
#IIN

मायावती ने कहा- अच्छे दिनों की उम्मीद में गरीबों ने लंबा समय काटा, प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी को जातीय सम्मेलन कहने पर आपत्ति

Hariom singh swaraj



बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि देश के करोड़ों गरीबों, मजदूरों व शोषित पीड़ितों ने अपने थोड़े अच्छे दिनों की उम्मीद में ही बहुत समय व्यतीत किया है। यह बहुत चिंता की बात है। अब समय आ गया है कि सभी सरकारी कर्ताधर्ता उनका उद्धार करें। रविवार को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मायावती ने देशवासियों शुभकामनाएं दीं। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि देश की आजादी व उसके बाद मानवतावादी संविधान बना कर जो समतामूलक समाज बनाने में सभी की तरक्की का सपना देखा गया था वह अभी अधूरा है। इस पर सही सोच व समर्पण की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश के लोगों के जीवन में सुख, शांति, शिक्षा, समृद्धि व रोजगार संविधान का मूल है। इसके प्रति केंद्र व राज्य सरकारों को भी जनता के दुख दर्द को समझ कर उन्हें दूर करने के लिए इधर-उधर की बातें नहीं करनी चाहिए बल्कि उस पर पूरी ईमानदारी व निष्ठा से काम करना बेहद जरूरी है। पूरा देश आज आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है।

इसके अलावा मायावती ने फिर ट्वीट कर बसपा के प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी को कई दलों द्वारा जातीय सम्मेलन कहने पर आपत्ति जताई है। मायावती ने इसको लेकर दो ट्वीट किए हैं। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad