शाहाबाद का सबसे बड़ा ऐतिहासिक तालाब का डीडीसी ने लिया जायजा। - Ideal India News

Post Top Ad

शाहाबाद का सबसे बड़ा ऐतिहासिक तालाब का डीडीसी ने लिया जायजा।

Share This
#IIN

शाहाबाद का सबसे बड़ा ऐतिहासिक तालाब का डीडीसी ने लिया जायजा।
निरीक्षण के वक्त तकनीकी पदाधिकारी की टीम भी थी मौजूद


दीपक कुमार गुप्ता जिला संवाददाता कैमूर




नुआंव।  डीडीसी कुमार गौरव ने शनिवार को तकनीकी पदाधिकारियो के एक टीम के साथ शाहाबाद का सबसे बड़ा ऐतिहासिक तालाब का जायजा लिया।करीब आधा घंटा के निरीक्षण के क्रम में डीडीसी एवं मौजूद तकनीकी पदाधिकारियो ने तालाब के पूरे भौगोलिक बनावट व संरचना तथा ऐतिहासिक जानकारियों की जानकारों व जनप्रतिनिधियो से ली।मोके पर मौजुद पूर्व प्रमुख व तालाब के जीणोद्धार कराने को ले प्रयासरत अभय कुमार सिंह ने डीडीसी को तालाब के संबंध में विस्तृत जानकारी दी।इस संबंध में पूर्व प्रमुख ने बताया कि तालाब को पर्यटक स्थल का दर्जा दिलाने हेतु मैं 2001 में स्थानीय पंचायत तरैथा का मुखिया बनने के बाद से ही प्रयासरत हूं।और मेरे कार्यकाल में जल छाजन योजना के तहत कुछ कार्य भी हुवे लेकिन उक्त योजना के बीच मे ही बंद हो जाने से पूरा काम नही हो पाया।उन्होंने बताया कि वर्तमान डीएम का भी ध्यान उक्त तलाब को ले मेरे द्वारा आकृष्ट कराया गया है।जिसके आलोक में डीडीसी आये थे।बतादे की उक्त तालाब का जायजा लेने वाले डीडीसी चौथे  आईएस अधिकारी है।इससे पहले कैमूर डीएम के पद पर रहते हुवे मयंक बणबणे राजेश्वर सिंह नवल किशोर चौधरी ने भी पूरे दल बल के साथ जायजा ले चुके है।बताया तो यहां तक जा रहा है कि डीपीआर भी बनाकर जिला प्रशाशन हेतु पर्यटन विभाग को भेजा जा चुका है।लेकिन कार्रवाई की प्रगति अभी शून्य है।इस संबंध में डीडीसी कुमार गौरव ने बताया कि तलाब के जीणोद्धार हेतु मेरे द्वारा दरवली तलाब का जायजा लिया गया।इस दौरान आकलन किया गया कि इस क्रम में तलाब के विकास एवं विस्तार के लिए कौन कौन से काम किए जा सकते है।तथा इसको करने में कितना धन राशि एक अनुमान के अनुसार खर्च आएगी।ताकि डीपीआर को नया स्वरूप देकर बिभाग को भेजा जा सके।उन्होंने भी माना कि तळाब के जीणोद्धार होने से जल संचय का एक बड़ा स्रोत कैमूर के नुआंव प्रखंड में हो जाएगा।जिससे किसानों को किसानी में काफी लाभ मिलेगी।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad