Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भारत के लिए चिंता का सबब बन सकते हैं ये चार मुल्क | जानें कैसे? - Ideal India News

Post Top Ad

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भारत के लिए चिंता का सबब बन सकते हैं ये चार मुल्क | जानें कैसे?

Share This
#IIN

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भारत के लिए चिंता का सबब बन सकते हैं ये चार मुल्क | जानें कैसे?


Adarsh pandey

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान में तालिबान के कब्ज़े के बाद अब रूस समेत चीन, पाकिस्तान और तुर्की भारत के लिए चिंता का विषय बन सकते हैं. खासकर जिस तरह से सोमवार को चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान का पक्ष लेते हुए भारत पर जानबूझकर पाकिस्तान को नहीं बोलने देने का आरोप लगाया, उससे चीन ने आने वाले दिनों में तालिबान के मद्देनजर भारत के लिए मुश्किलें खड़ी करने के साफ संकेत दे दिए हैं.


यही नहीं चीन ने पाकिस्तान से भी पहले तालिबान के साथ काम करने की बात करके ये संकेत भी दे दिये हैं कि भले ही संयुक्त राष्ट्र के स्थाई पांच सदस्यों ने अभी तक तालिबानी सरकार को मान्यता न दी हो मगर चीन आने वाले दिनों में ऐसा कर सकता है. और अगर ऐसा हुआ तो ये भारत के लिए चिंता का विषय हो सकता है. अभी हाल हीं में एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए भारत में अफगानिस्तान के राजदूत फरीद मामुन्दज़ेय ने कहा था कि चीन को जिम्मेदार रुख दिखाना होगा.


इतना ही नहीं, चीन इस मामले में जिस तरह से पाकिस्तान के साथ मिलकर रणनीति बना रहा है वो इसी बात से स्पष्ट हो जाता है कि खुद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अफगानिस्तान से अमेरिका के जाने और तालिबान के राज का स्वागत कर दिया. ये बात किसी से छिपी नहीं है कि पाकिस्तान दशकों से तालिबान का समर्थन करता रहा है और पाकिस्तानी एजेंसियां तालिबान को हथियार भी मुहैया कराती रही हैं.


ये भी दिलचस्प बात है कि 6 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में हुई अफगानिस्तान पर चर्चा में भी जब पाकिस्तान को बोलने की अनुमति नहीं मिली थी, उसके तुरंत बाद ही तालिबान ने अफगानी शहर मज़ार-ए-शरीफ पर कब्ज़ा की मुहिम तेज़ कर दी थी. इससे साफ है कि पाकिस्तान के नापाक मंसूबे भारत के लिए बड़ी चिंता का विषय होंगे. अफगान राजदूत ने एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए पाकिस्तान की भूमिका पर भी खासी चिंता जताई थी.


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad