स्मार्टफोन पर लगाते हैं Screen Guard तो हो जाएं सावधान, - Ideal India News

Post Top Ad

स्मार्टफोन पर लगाते हैं Screen Guard तो हो जाएं सावधान,

Share This
#IIN 

स्मार्टफोन पर लगाते हैं Screen Guard तो हो जाएं सावधान, 

Adarsh pandey





अगर आप भी अपने स्मार्टफोन पर स्क्रीन गार्ड लगाते है तो आपके लिए ये खबर पढ़ना बहुत जरूरी है। सच तो यह है कि स्क्रीन गार्ड अगर आप इस्तेमाल आपके लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। जी हां, अगर आप थर्ड पार्टी स्क्रीन प्रोटेक्टर का इस्तेमाल करते हैं, तो यह स्मार्टफोन की सेहत के लिए नुकसानदायक है। 

जानिए क्या है इसके पीछे की वजह
हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक मॉडर्न स्मार्टफोन में डिस्प्ले के नीचे दो सेंसर Ambient Light सेंसर और Proximity सेंसर छिपे रहते हैं। इससे आपको स्क्रीन नॉन रिएक्टिव हो जाती है। ऐसे में आपको स्मार्टफोन पर कॉल आनी बंद हो जाती है। साथ ही थर्ड पार्टी स्क्रीन गार्ड के इस्तेमाल से कई बार इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट स्कैनर सही से काम नहीं करता है।

अगर आप भी अपने स्मार्टफोन पर स्क्रीन गार्ड लगाते है तो आपके लिए ये खबर पढ़ना बहुत जरूरी है। दरअसल जब हम स्क्रीन गार्ड लगवाते हैं तो हमे ऐसा लगता है की अब हमारी फोन की स्क्रीन सुरक्षित रहेगी। लेकिन सच तो यह है की ऐसा नहीं है। सच तो यह है कि स्क्रीन गार्ड अगर आप इस्तेमाल आपके लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। जी हां, अगर आप थर्ड पार्टी स्क्रीन प्रोटेक्टर का इस्तेमाल करते हैं, तो यह स्मार्टफोन की सेहत के लिए नुकसानदायक है। 

 

जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

यह दोनों सेंसर आपको दिखाई नहीं देते हैं, जो कि फोन की स्क्रीन की राइट साइड रिसीवर के पास होते हैं। ऐसे जब हम स्क्रीन को बचाने के लिए फोन पर स्क्रीन गार्ड लगाते हैं तो वे सेंसर को ब्लॉक कर देता है। इससे आपको स्क्रीन नॉन रिएक्टिव हो जाती है। ऐसे में आपको स्मार्टफोन पर कॉल आनी बंद हो जाती है। 

फोन में कई तरह के सेंसर मौजूद रहते हैं। इन्ही में से एक Ambient light sensor होता है। Ambient light फोन की लाइट को धूप की रोशनी के मुताबिक अपने आप ही बढ़ा देता है। वहीं, अगर फोन किसी कम रोशनी वाली जगह है कि तो अपने आप फोन की लाइट कम हो जाती है। Proximity Mobile सेंसर फोन को अपने कान के पास लेकर जाते हैं तो उसकी लाइट बंद हो जाती है और दूर करने पर दोबारा लाइट जल जाती है। यह इसके कारण होता है

 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad