भ्रष्टाचार मामले में जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी निलंबित - Ideal India News

Post Top Ad

भ्रष्टाचार मामले में जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी निलंबित

Share This
#IIN 

भ्रष्टाचार मामले में जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी निलंबित

डा यू एस भगत वाराणसी


वाराणसी। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी रमेंश चंद्र को शासन ने भ्रष्टाचार के मामले में निलंबित कर दिया है। इनके स्थान पर गाजीपुर जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी प्रभात कुमार को बनारस का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। विभाग के मुख्य वक्फ निरीक्षक सुनील कुमार को 50 हजार रुपये की घूस लेते हुए भ्रष्टाचार निवारण संगठन की टीम ने 28 नवंबर 2018 को रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। सुनील कुमार पैसा लेने के लिए जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी रमेश चंद्र की निजी गाड़ी से आए थे। इस कारण भ्रष्टाचार निवाराण संगठन ने रमेश चंद्र को धारा 120-बी के तहत आरोपी माना था। इस मामले की जांच चल रही थी। कार्रवाई के लिए शिक्षक संगठन ने एमएलसी सुरेश कुमार त्रिपाठी और ध्रूव कुमार त्रिपाठी से संपर्क किया। दोनों ने विधान परिषद में इस मामले को उठाया। इसके बाद बुधवार को शासन से जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी रमेश चंद्र को निलंबित कर दिया। टीचर्स एसोसिएशन मदारिस-ए अरबिया के सेक्रेटरी डॉ. नबी जान ने बताया कि शिक्षकों के उत्पीड़न, भ्रष्टाचार और अनियमित कार्योँ की शिकायत मुख्यमंत्री सहित संबंधित अधिकारियों से की जाती रही है। मामले की पूरी जानकारी फूलपुर इलाके में कठिरांव स्थित मदरसा इस्लामिया के प्रबंधक हैदर अली ने 26 नवंबर 2018 को भ्रष्टाचार निवारण संगठन में शिकायत की थी। बताया कि उनके मदरसा के 12 कर्मचारियों के करीब दो साल के वेतन के लिए एक करोड़ रुपये से ज्यादा धन शासन से जारी हो गया है। दो महीने से विकास भवन स्थित अल्पसंख्यक विभाग के अधिकारी और कर्मचारी घूस की मांग करते हुए टरका रहे हैं। पहले कुल धनराशि में 15 फीसद बतौर घूस मांगा गया था, फिर कहा गया कि सभी 12 कर्मचारियों में प्रत्येक के हिस्से से 50 हजार यानी छह लाख रुपये दिया जाए। इसमें 50 हजार रुपये हैदर अली से 28 नवंबर 2018 को विभाग के कर्मचारी सुनील कुमार को देने के लिए कहा गया था। पैसा लेने गए सुनील कुमार को रंगे हाथ टीम ने पकड़ लिया था।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad