प्रयागराज पुलिस का काला कारनामा! अपराधियों को पूरा संरक्षण! पत्रकार दर-दर भटकने पर मजबूर! नहीं हो रही है इस समय कोई सुनवाई - Ideal India News

Post Top Ad

प्रयागराज पुलिस का काला कारनामा! अपराधियों को पूरा संरक्षण! पत्रकार दर-दर भटकने पर मजबूर! नहीं हो रही है इस समय कोई सुनवाई

Share This
 #IIN

*2 दिन के अंदर हुआ अवैध कब्जा पुलिस विभाग के दिखी लापरवाही वरिष्ठ अधिकारियों आदेश के बाद भी नहीं हो पाया काम*


प्रयागराज पुलिस का काला कारनामा! अपराधियों को पूरा संरक्षण! पत्रकार दर-दर भटकने पर मजबूर! नहीं हो रही है इस समय कोई सुनवाई







*महेवा, प्रयागराज।* मात्र 2 दिनों में हुआ अवैध कब्जा फर्राटे से चल रहा काम महेवा पूरब पट्टी के अंतर्गत महेवा में रहने वाले मोहम्मद कामरान जिनके पुश्तैनी जमीन है कुछ फर्जी लोग फर्जी कागजात करछना से बनवा कर, 40 के तादाद में आए लोग करेली मलाका कटरा गंजिया के लोग जबरजस्ती जमीन पर हो रहा है कब्जा बता दे मोहम्मद कामरान उर्फ मोनू हर बात हिंदी पेपर के उप संपादक हैं उनकी यह पुश्तैनी जमीन और कागजात साफ है उस दिन पहले यह लोग 3 तरीके का पेपर बना कर ले आए और मोनू को दिखाने लगे मोनू को दिखाया उनके चाचा का पेपर के आपके चाचा ने भेजा है और जब मोनू ने अपने चाचा के पास  भेजा तो उनको दिखाया गया मोनू जी के पिता लेट मोहम्मद याहिया का पेपर उसके बाद उनके कागजात पर 242,1 पी के दस्तावेज पर लिखा हुआ था जब मोनू ने बोला कि मेरी जमीन का आराजी नंबर 232 बटा 2 है तो फिर उन्होंने आराजी पर जो कि 232 बटा 2 है उस पर अपना नाम छुड़वाया और 200 90 मीटर जमीन लिखी जिसका की 274 गज या तो 73 गज होता है और वहां मोनू को बगैर बताए पूरी जमीन पर कर लिया गया कब्जा मोनू जब आला अधिकारी के पास पहुंचे तो ssp साहब ने यमुनापार को भेज दिये पेपर और यमुनापार साहब ने पिड़ित परिवार पत्रकार मोनू महेवा को फोन करके आश्वासन देते हुए उनको 3 दिनों का समय देते हुए कहे की इस दौरान आप अपना पेपर ले आएं और पेपर दिखाएं मगर चौकी इंचार्ज अजयकुमार मिश्रा अपने जिद पर अड़े हुए हैं। 








पत्रकार से उन्होंने बोला था कि तुम्हारी कोई बात नहीं सुनी जाएगी क्योंकि पत्रकार से वखार खाए हुए बैठे थे जिनको एक मौका मिलते ही उसका फायदा उठाये। आला अधिकारी ने आज काम रोकने के लिए बोला था लेकिन जोरों पर लगा रहा 8:15 बजे से काम इसकी फोटो पत्रकार ने खींच कर अधिकारियों को भेज दी और अब वह अधिकारियों से न्याय की लगा रहे हैं गुहार......?
*देखना अब यह है कि क्या पीड़ित परिवार को न्याय मिल पाएगा,,,,,?*

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad