सरकार के जो भी सहयोगी दल हैं, वे जन समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहे विपक्ष भी शांत : भा.ज.मो.अध्यक्ष - Ideal India News

Post Top Ad

सरकार के जो भी सहयोगी दल हैं, वे जन समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहे विपक्ष भी शांत : भा.ज.मो.अध्यक्ष

Share This
#IIN 

कमल कुमार कश्यप
 रांची झारखंड बिहार




 सरकार के जो भी सहयोगी दल हैं, वे जन समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहे विपक्ष भी शांत  : भा.ज.मो.अध्यक्ष


-》》 भारतीय जनतंत्र मोर्चा के अध्यक्ष श्री धर्मेंद्र तिवारी से पिछले दिनों अनेक हिन्दु संगठनों के प्रतिनिधि, प्रबुद्ध नागरिक एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मुलाकात की। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा मंदिरों एवं अन्य धार्मिक स्थलों में श्रद्धालुओं के लिए पूजा-अर्चना करने पर लगी पाबंदी हटाने लिए श्री धर्मेंन्द्र तिवारी को एक ज्ञापन सौंपा। उनकी बातों को ध्यानपूर्वक सुनने के बाद श्री तिवारी ने उन्हें आश्वस्त किया वे इस मुद्दे को सरकार तक पहुंचायेंगे और सरकार के उच्चधिकारी से इस संदर्भ मंे बात करेंगे। श्री तिवारी ने कहा कि कोरोना के दूसरी लहर के बाद जन-जीवन सामान्य हो रहा है। सरकार ने जब बाजार, माॅल, पार्क, होटल, परिवहन, सैलून, सिनेमा हाॅल सहित सरकारी दारू दुकानों को उचित शर्तो के साथ खोलने की अनुमति दी है; तो फिर भक्तों के अपने प्रभु के पूजा-अर्चना करने की अनुमति देने में सरकार को क्या परेशानी है, यह समझ से परे है। सरकार के जो भी सहयोगी दल हैं, वे जन-समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। विपक्ष भी शांत है, लगता है कि विपक्ष के पास भी कोई मुद्दा बचा ही नहीं है।
श्री तिवारी ने बताया कि इस वैश्विक महामारी काल में लोग अवसाद में आत्महत्या कर रहे हैं, परेशान हैं। सरकार को इससे कोई लेना-देना नहीं है। समाज में सामाजिक समरसता बढ़ाने में धर्म एवं आध्यात्म का बहुत महत्व है। भक्तों के पूजा-अर्चना नहीं करने के कारण मंदिरों के पुजारी/ब्राह्ममणों के समक्ष भुखमरी की स्थिति आ गई है। उनके लिए राशन कार्ड की व्यवस्था, चिकित्सा उनके बच्चों के शिक्षा  आदि की व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा समुचित ढंग से नहीं की गई है।
श्री तिवारी ने राज्य के मुख्यमंत्री से मांग की है कि राज्य के सभी मंदिरों को सूचिबद्ध करते हुए उन मंदिरों के पुजारी/सहपुजारी को सरकार की ओर से उचित मानदेय दिया जाय। सभी मंदिरों में गाय पालन की व्यवस्था हो। इसके लिए सरकार अनुदान भी दे, मध्यान भोजन प्रसाद की व्यवस्था हो जिससे राहगीरों को भी लाभ मिले गरीबों को भी प्रसाद पाने का अवसर मिले राज्य में कोई भूखा ना रहे। ज्ञात हो कि मंदिर के आसपास पूजन सामग्री बेचने वाले एवं छोटे-छोटे होटल भी सभी मंदिर पर आश्रित होते उनके समक्ष भुखमरी की स्थिति है सरकार को उनकी भी सुध लेनी चाहिए सरकार के संज्ञान में सब कुछ है बताने की आवश्यकता नहीं है। सरकार को आदेश देना चाहिए जिससे सरकार की बदनामी ना हो। मंदिर के व्यवस्थापक पुजारी को निर्देश हो की  नियमों का पालन करें पूजा कराने में। श्री तिवारी के साथ मुख्य रूप से भारतीय जनतंत्र मोर्चा के उपाध्यक्ष श्री मुकेश पाण्डेय, महामंत्री श्री आशीष शीतल मुंडा कार्यालय प्रभारी, डाॅ. ओम प्रकाश पाण्डेय, राँची महानगर अध्यक्ष, श्री अशोक कुमार सिन्हा, श्री संजय द्विवेदी, श्री श्याम बिहारी नायक, श्री सौम्या मिश्रा जी महाराज, पंडित राम देव पांडे जी सहित हिन्दु संगठनों के अनेक प्रतिनिधि एवं बुद्धिजीवी मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad