निजीकरण के विरोध में मुखर हुए कर्मचारी नेता - Ideal India News

Post Top Ad

निजीकरण के विरोध में मुखर हुए कर्मचारी नेता

Share This
#IIN

निजीकरण के विरोध में मुखर हुए कर्मचारी नेता

डा यू एस भगत वाराणसी



वाराणसी। पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मंडल के मंडुवाडीह, सिटी समेत कुल 14 रेलवे स्टेशनों पर पूछताछ काउंटर की सुविधा अब निजी हाथों में दे दी गई है। इसे लेकर कर्मचारी नेताओं ने गहरी नाराजगी जताई है। इसे फैसले को वापस लेने की मांग की है। कहा है कि निजीकरण महामारी में मारे गये रेलकर्मियों के अपमान जैसा है।
पूर्वोत्तर रेलवे श्रमिक संघ के सहायक मंडल मंत्री सर्वेश कुमार पांडेय ने कहा कि ठेकेदारी प्रथा में रखे जाने वाले लोगों का भी शोषण होगा। ठेकेदार रेलवे से पूरे रुपये लेगा, कर्मचारियों के भुगतान में कटौती करेगा। साथ ही जवाबदेह वाली जगह पर बाहर के लोगों से ड्यूटी लेना कहीं से भी ठीक नहीं है। इससे व्यवस्था बिगड़ेगी। एनई रेलवे मेंस कांग्रेस के केंद्रीय अध्यक्ष अखिलेश एन्क्वायरी की आउटसोर्सिंग की जो प्रक्रिया अपनाई जा रही है, यह रेल कर्मियों के साथ ही आम जनता के साथ भी धोखा है। कोरोना संकट काल में जिस तरह से रेल कर्मियों ने सेवा दी और 2000 से ज्यादा रेल कर्मियों ने प्राणों का बलिदान किया, उसे दरकिनार कर आउटसोर्सिंग को अपनाया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad