ब्यूटीफिकेशन ऑफ अंडर प्लाईओवर स्पेसिस प्रोजेक्ट के तहत,फ्लाईओवर के नीचे खाली जगह का हो रहा है सौंदर्यकरण। - Ideal India News

Post Top Ad

ब्यूटीफिकेशन ऑफ अंडर प्लाईओवर स्पेसिस प्रोजेक्ट के तहत,फ्लाईओवर के नीचे खाली जगह का हो रहा है सौंदर्यकरण।

Share This

#IIN


करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)।


ब्यूटीफिकेशन ऑफ अंडर प्लाईओवर स्पेसिस प्रोजेक्ट के तहत,फ्लाईओवर के नीचे खाली जगह का हो रहा है सौंदर्यकरण।



अपने शहर के लिए स्मार्ट सिटी में कई खास प्रोजेक्ट लिए गए हैं। स्मार्ट का मतलब सुंदर और स्मार्टनेस यानि सुंदरता, इसी अलंकरण से एक प्रोजेक्ट ब्यूटीफिकेशन ऑफ अंडर प्लाईओवर स्पेसिस नाम से शुरू हो गया है। शहर से गुजरते एन.एच.-44 पर पडऩे वाले 7 फ्लाईओवर के नीचे मौजूद जगहों का सौंदर्यकरण करना, इसका मतलब है। इन सभी फ्लाईओवर के नीचे सप्तरंग पर आधारित एक-एक रंग यानि एक-एक आर्ट को डिपिक्ट यानि चित्रित किया जाएगा।

गुरूवार सांय को स्मार्ट सिटी की एक मीटिंग में उपायुक्त एवं सीईओ निशंात कुमार यादव ने इस पर विस्तार से चर्चा कर बताया कि अगले एक-दो महीनों में यह आमजन के सामने होगा। सप्तरंग से तात्पर्य, सात फ्लाईओवर के अंडरपास को, सात अलग-अलग रंगों में लिया गया है।
ऐसा  होगा सप्तरंग की इंद्रधनुषी छटा का चित्रण- सीईओ ने बताया कि झिलमिल ढाबे के समक्ष अंडरपास को साहित्य के महत्व से संजोया जाएगा, जिसमें गीता के श्लोक होंगे, महाकाव्य रचने वाले कालीदास के अतिरिक्त प्रभु की प्रेम दीवानी मीरा बाई और महाभारत के योद्धा कर्ण के पराकर्म को चित्रित किया जाएगा।

 उन्होंने बताया कि लिबर्टी चौक फ्लाईओवर के नीचे स्पेस पर परफोर्मिंग आर्ट (नृत्य कला) दिखाई देगी, जिससे हमारी समृद्ध संस्कृति के दर्शन होंगे। इसी तरह आई.टी.आई. फ्लाईओवर के नीचे जगह संगीत के रंगो से सराबोर होगी, जिसमें हमारे लोक वाद्य यंत्र दिखाई देंगे। इसके पश्चात निर्मल कुटिया फ्लाईओवर के नीचे मूर्तिकला के चित्र अपने मुहं बोलेंगे। स्वामी ब्रह्मानंद चौक (सेक्टर-6) फ्लाईओवर के नीचे जगह पर होंगे फिल्मों के रंग, जिसमें हमारे प्रदेश के फिल्मों में अभिनयकार रहे कलाकारों की पेंटिंग में भाव-भंगिमाएं देखने को मिलेंगी। 

जबकि ताऊ देवी लाल चौक पर स्थापत्य कला के दर्शन होंगे। इसके अतिरिक्त आखिरी रंग को नमस्ते चौक फ्लाईओवर अंडर स्पेस को खूबसूरत पेंटिंग से सजाया जाएगा, जो अलग-अलग तरह की होंगी। सीईओ निशांत कुमार यादव ने आगे बताया कि ब्यूटीफिकेशन का मकसद न केवल इन जगहों को सुंदर बनाना है, अपितु लोगों को अपनी संस्कृति और महान विरासत से जोडऩा भी है। जो भी फ्लाईओवर के नीचे से गुजरेगा, वह सहज ही कुछ पल के लिए इन्हें निहारे बिना नहीं रह सकेगा। 

ऐसे में अवसाद से घिरा व्यक्ति कुछ पल के लिए सुंदरता से रूबरू होगा, इसके प्रभाव से उसे अपने शहर की हर चीज सुंदर लगेगी। या यूं कहे कि व्यक्ति अपने शहर से जुड़ेगा। उन्होंने बताया कि सभी फ्लाईओवर के नीचे उपलब्ध स्पेस गुजरने वालों के लिए आम मायने रखता है, इसीलिए कुछ लोग वहां थूक देते हैं, कुछ खा-पीकर बेकार सामान को फैंक देते हैं और फिर हो जाता है फिर गंदगी का आलम। अब इस प्रोजेक्ट से गंदी जगह सुंदर हो जाएंगी।अलग-अलग पेंटिंग के अतिरिक्त हाांकि लोग यहां कुछ खा-पी भी सकेंगे। 

उनके बैठने के लिए बैंच तथा वैंडर्स के लिए जगह को एक सुनियोजित तरीके से बनाएंगे। बगल में ही छोटी से पार्किंग भी होगी, इसके अलावा शौचालयों की व्यवस्था, सुंदर-सजावटी पौधे और रोशनी की भी पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी। सीईओ ने बताया कि इस प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है, अब तक दो फ्लाईओवर के नीचे पेविंग, बैंचो के लिए फाउंडेशन तथा करव स्टोन लगाने जैसे सिविल वर्क को अंजाम दिया जा चुका है। उन्होंने बताया कि इस तरह के प्रोजेक्ट देश की राजधानी दिल्ली, बेंगलूर तथा नोयडा में भी मौजूद हैं, जो लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad