मड़वा धनावल गांव में दूसरी बार दिखाई पड़ा तेंदुआ, ग्रामीणों में भय ब्याप्त - Ideal India News

Post Top Ad

मड़वा धनावल गांव में दूसरी बार दिखाई पड़ा तेंदुआ, ग्रामीणों में भय ब्याप्त

Share This
#IIN

अखिलेश मिश्रा बागी मिर्जापुर
मड़वा धनावल गांव में दूसरी बार दिखाई पड़ा तेंदुआ, ग्रामीणों में भय ब्याप्त




 मिर्जापुर जनपद के हलिया थाना क्षेत्र के मड़वा धनावल गांव में बीते 27 मई की रात तेंदुए के हमले में गाय की मौत के बाद गांव में बुधवार शाम को फिर से तेंदुआ के दिखाई देने पर ग्रामीणों में दहशत में है। तेंदुए के हमले में गाय की मौत होने पर वन क्षेत्राधिकारी ड्रमंडगंज वी के तिवारी ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की थी लेकिन इसके बाद वनविभाग ने गांव में कदम नही रखा जबकि ग्राम प्रधान रमेश सिंह तथा प्रधान संघ अध्यक्ष शिव बाबू सेठ ने रेंजर से बात कर पहाड़ से सटे गांवों में गश्त बढ़ाने की मांग की थी लेकिन वनविभाग की उदासीनता के चलते ग्रामीणों में तेंदुए को लेकर खौफ व्याप्त है। कैमूर पहाड़ से धनावल गांव में करीब छः सौ लोगों की आबादी निवास करती है। जिनमें अधिकांश लोग खेती के साथ भेड़ बकरी और गाय भैंस पालकर अपने परिवार की जीविका चलाते हैं। बुधवार शाम चार बजे मड़वा धनावल गांव निवासी गूड्डू सिंह अपने साथी विवेक मौर्य के साथ धनावल गांव स्थित अपने पाही पर जा रहे थे कि रास्ते में महुआ के बगीचे में पहुंचे कि पेड़ की ओट में बैठा तेंदुआ दिखाई देने पर होश उड़ गए। संयोग ठीक था कि तेंदुए ने दोनों लोगों की आहट पाते ही जंगल की तरफ सरपट दौड़ लगा दिया नही तो बड़ी दुर्घटना हो सकती थी। तेंदुए को देखकर डरे सहमें ग्रामीण गूड्डू सिंह व विवेक मौर्य ने बस्ती में पहुंचकर तेंदुए के दिखाई देने की बात ग्रामीणों को बताई। जिसपर ग्रामीण लाठी डंडा लेकर बगीचे की तरफ गये लेकिन तेंदुए का कोई अता-पता नही चला।ग्राम प्रधान रमेश सिंह ने गांव में तेंदुए के फिर से दिखाई देने की सूचना रेंजर ड्रमंडगंज को दिया और वन क्षेत्र में चौकसी बढ़ाए जाने की मांग किया है। जिससे ग्रामीण भयमुक्त होकर अपना कार्य कर सकें।
इससे पूर्व धनावल गांव में पिछले वर्ष मुनाई पाल की गाय को तेंदुए ने अपना शिकार बना लिया था।  गांव में फिर से तेंदुआ दिखाई देने पर ग्रामीणों में जान माल की सुरक्षा को लेकर चिंता सताने लगी है।
इस संबंध में वन क्षेत्राधिकारी ड्रमंडगंज वी के तिवारी से बात करने पर उन्होंने बताया कि तेंदुए के गांव में दिखाई देने पर ग्रामीणों तथा चरवाहों को जंगल की तरफ मवेशियों को लेकर जाने से रोका जाएगा। ग्रामीणों के जानमाल की सुरक्षा के लिए वनटीम द्वारा चौकसी बरतने के लिए निर्देश दिया गया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad