नीतीश कुमार को परिस्थितियों का सीएम बताकर फंसे बीजेपी एमएलसी टुन्ना पांडेय। - Ideal India News

Post Top Ad

नीतीश कुमार को परिस्थितियों का सीएम बताकर फंसे बीजेपी एमएलसी टुन्ना पांडेय।

Share This
#IIN

नीतीश कुमार को परिस्थितियों का सीएम बताकर फंसे बीजेपी एमएलसी टुन्ना पांडेय।

 प्रदेश अध्यक्ष ने अनुशाशन समिति की अनुशंसा पर उन्हें किया   निलम्बित।





पटना।  बिहार के राजनीतिक गलियारे से एक बड़ी खबर आ रही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर विवादित बयान देने वाले बीजेपी एमएलसी टुन्ना पांडेय को पार्टी ने निलम्बित कर दिया है।पार्टी की अनुशासन कमेटी ने उन्हें नोटिस भेज जबाब मंगा था।बतादे की पांडेय लगातार गठबंधन धर्म को ठेंगा दिखा सीएम नीतीश पर कटाक्ष कर रहे थे। जिस पर जेडीयू ने  कड़ा रुख अपनाया था।
बीजेपी एमएलसी ने कहा था,नीतीश कुमार परिस्थितियों के मुख्यमंत्री हैं। मेरे नेता नहीं हैं। मैं केवल बीजेपी के शीर्ष नेताओं को अपना नेता मानता हूं। 
गाठबंधन लाइन से हटकर  नीतीश कुमार के खिलाफ बोलने वाले एमएलसी को पार्टी की अनुशासन कमेटी ने गुरुवार को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।और पार्टी द्वारा बार बार लाख समझाने के बाद भी वे अपने स्टैंड पर अड़े रहे।बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने खुद इसका खुलासा किया है।
दरसल बिहार में बीजेपी एमएलसी के बयान पर बीजेपी-जेडीयू में काफी तनातनी बढ़ गई थी। जेडीयू ने भाजपा पर चौतरफा हमला बोल दिया था। जेडीयू के दूसरी कतार में खड़े सभी नेता मैदान में कूद पड़े थे। वैसे भाजपा एमएलसी टुन्ना जी पांडेय इस बार कोई पहले दफे ऐसा बयान नहीं दिया है बल्कि पिछले वर्षों से ही नीतीश का खिलाफत करते आ रहे हैं। इसके पहले वे नीतीश कुमार को विकास पुरूष की जगह विनाश पुरूष बताया था। साथ ही कई अन्य गंभीर आरोप भी लगाये थे।  लेकिन इस बार उनके बयान पर बवाल बढ़ गया।उधर एमएलसी टुन्ना जी का कहना है कि जो सही बात है वो मुंह से निकल गया। हालांकि बोलने के बाद अब डर सताने लगा है कि कही मेरा भी हाल शहाबुद्दीन जैसा न हो जाय।
बीजेपी एमएलसी ने कहा कि नीतीश कुमार वाकई में परिस्थितियों के मुख्यमंत्री हैं।अपनी बात को साबित करने के लिए उन्होंने तर्क भी पेश किया। बीजेपी विधान पार्षद ने कहा कि शहाबुद्दीन ने गलत थोड़े कहा था कि नीतीश कुमार परिस्थितियों के सीएम हैं। पिछली दफा दूसरे नंबर की पार्टी के नेता थे फिर भी मुख्यमंत्री बने। इस बार तीसरे नंबर पर ठेला गये फिर भी मुख्यमंत्री बने। वे मुख्यमंत्री बनने की क्षमता नही रखते। चुनाव लड़कर विधायक भी नही बने हैं।वे सिर्फ भाग्यशाली की वजह से तीसरे नंबर पर जाने के बाद भी मुख्यमंत्री बने हैं। ऐसे में  परिस्थितियों के मुख्यमंत्री कहना कोई गलत बात नही है।  टुन्ना पांडेय ने कहा कि हमने जो भी कहा वो सही कहा। हमारे नेता नीतीश कुमार नहीं हैं,मुख्यमंत्री हैं।इस लिहाज से पूरे बिहार के मुख्यमंत्री हैं।उधर पार्टी लाइन से हटकर अपने जिद्द पर अड़े रहने वाले एमएलसी को प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल द्वारा उनको निलम्बित करने का आदेश जारी करने के बाद पार्टी के मुख्यालय प्रभारी ने शुरेस रूंगटा ने उनके निलंबन की जानकारी मीडिया को दी।हांलाकि पार्टी ने उनकी सदस्यता समाप्त करने हेतु बिधान सभा के सभा पति से कोई शिकायत नही की है।उनका कार्यकाल अब केवल डेढ़ माह रह गया है।उधर बिधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह ने कहा कि उनका मामला अचार समिति को सौपा जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad