मुरई,मिर्चा,इमरती, खरबूजा है सरनाम, पढ़िए जौनपुर पर लिखी गई शानदार कविता - Ideal India News

Post Top Ad

मुरई,मिर्चा,इमरती, खरबूजा है सरनाम, पढ़िए जौनपुर पर लिखी गई शानदार कविता

Share This
#IIN 

मुरई,मिर्चा,इमरती, खरबूजा है सरनाम, पढ़िए जौनपुर पर लिखी गई शानदार कविता

*लेखक - संदीप पांडेय , सतलपुर सिकरारा* 



 *जौनपुर* एक नगर हैं,
बसा गोमती तीर।

सीधे साधे नागरिक,

देश भक्त और बीर।।      

                          सदर,केराकत,मडियाहू,

                          बसे नगर के तीर।

                          शाहगंज मछलीशहर ,

                          बदलापुर ताहसिल।।

वरुणा,बसुई,पिली,

और सई गोमती तीर।

राम लखन सीता सहित,

ग्रहण किये यहाँ नीर।।

                            त्रिमुहानी,शाहीकिला,

                            अटाला और नूर।

                            शाहीपुल,भूलभुलैया,

                            टूर करो भरपूर।।

चौकिया माँ का धाम है,

त्रिलोचन शिव धाम।

मुरई,मिर्चा,इमरती,

खरबूजा है सरनाम।।

                        कशी का एक भाग यह ,

                        प्रयाग राज नजदीक।

                        सड़क,एअरपोर्ट,रेलमार्ग,

                        महामार्ग नजदीक।।

लोग यहाँ के मेहनती,

साहस से भरपुर।

हाबड़ा,दिल्ली,मुम्बई,

बसे हुए बंगलूर।।

                        जनगण मन जै जौनपुर

                        करते हम जयगान।

                        स्वर्ग से सुन्दर मातृभूमि 

                        तुझे साष्टांग प्रणाम।।

सभी जौनपुर वासियों को समर्पित । 

लेखक - संदीप पांडेय , सतलपुर सिकरारा

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad