जौनपुर कोरोनाकाल में एआरटीओ विभाग में सुविधा शुल्क के नाम पर अभ्यार्थियों के साथ हो रही है लूट पाट - Ideal India News

Post Top Ad

जौनपुर कोरोनाकाल में एआरटीओ विभाग में सुविधा शुल्क के नाम पर अभ्यार्थियों के साथ हो रही है लूट पाट

Share This
#IIN 

*जौनपुर कोरोनाकाल में एआरटीओ विभाग में सुविधा शुल्क के नाम पर अभ्यार्थियों के साथ हो रही है लूट पाट* 

धर्मेन्द्र सेठ जौनपुर




*भ्रष्टाचार के भेट चड़ा परिवहन विभाग मेडिकल बनाने की जिम्मेदारी मिली बरिष्ठ दलाल को*

जौनपुर। भ्रष्टाचार और दलाली के मामले में विख्यात एआरटीओ विभाग में कोरोनाकाल में दलाली की कीमतों में भारी इजाफा हुआ ही है वही लाइसेंस बनवाने वाले अभ्यार्थियों का मेडिकल प्रमाण पत्र देने का जिम्मा भी एक दलाल के कंधो पर विभाग ने सौप दिया है। विभागीय सूत्रो के अनुसार जिस काम का विभाग का बाबू तीन सौ रूपये सुविधा शुल्क लेता था अब एक हजार रूपये तक पहुंच गया है। जो अभ्यार्थी सुविधा शुल्क नही देता उसे नियमों का इतना पाठ पढ़ाया जाता है कि वह थक हारकर विभाग द्वारा पाले गये दलालों की शरण में जाने को मजबूर हो जाता है। इतना ही नही विभागीय अधिकारी व बाबू भोलीभाली जनता को गुमराह करने के लिए दलालों को ऐजेंट के नाम से पुकारते है। 

सूत्रों के द्वारा दी गयी खबर पर मुंहर लगा रहे है नगर के रामनगर भड़सरा गांव के निवासी आलोक कुमार सिंह। आलोक सिंह शुक्रवार को अपने लाइसेंस का नवीनीकरण कराने के लिए एआरटीओ विभाग गये थे वहां पर तैनात लाइसेंस पटल का काम देख रहे आर आई अशोक श्रीवास्तव को अपना पेपर दिया तो उन्होने तत्काल मेडिकल कराने का फरमान जारी कर दिया। अलोक बताते है कि मैने पता किया कि मेडिकल चेकअप कहा होगा तो मुझे बताया कि नीलू गुरू मेडिकल करते है मैं नीलू गुरू के पास पहुंचा तो उन्होने बताया कि मुझे केवल विभाग के ऐजेंटों के कोडिंग वाले अभ्यार्थियों का मेडिकल बनाने को कहा गया है। उसके बाद मैं सीएमओ आफिस गया वहां पता चला कि मेडिकल जिला अस्पताल में बनाया जाता है, मै जिला अस्पताल गया तो वहां जिम्मेदार लोगो ने बताया कि पहले कोरोना टेस्ट कराना होगा उसके बाद ही आपकी और कोई टेस्ट डाक्टरो द्वारा किया जायेगा। पूरे दिन दौड़ने के बाद मैं थक हारकर एक विश्वसनीय विभागीय दलाल से सम्पर्क करने का मन बना रहे हैं

आलोक ने बताया कि कार्यालय में हर जगह लिखा गया है कि दलालो से सावधान लेकिन मेरा आज का अनुभव बता रहा है कि दलाल ही समाधान है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad