बीएचयू में ऑन लाइन ओपीडी बंद होने के बाद टेली ओपीडी से देखे जा रहे मरीज। - Ideal India News

Post Top Ad

बीएचयू में ऑन लाइन ओपीडी बंद होने के बाद टेली ओपीडी से देखे जा रहे मरीज।

Share This
#IIN

बीएचयू में ऑन लाइन ओपीडी बंद होने के बाद  टेली ओपीडी से देखे जा रहे मरीज।








विश्वनाथ प्रसाद गुप्ता,ब्यूरो चीफ बिहार।


पहले कराना होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन।

पटना/ डेस्क।  कोरोना की दूसरी लहर के संकट को देखते हुए वाराणसी यूपी के बीएचयू अस्पताल में ओपीडी  और इलेक्टिव ओपीडी बंद होने के  बाद अब मरीज बीएचयू में टेली ओपीडी अर्थात टेली मेडिसीन के जरिये डाॅक्टरों से सलाह ले सकेंगे। पर इसके लिये उन्हें पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा।
 इसके बाद मरीज बीएचयू के डाॅक्टरों से ऑनलाइन इलाज ले सकेंगे। हालांकि बीएचयू में सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, रेडियोथेरेपी एवं रेडिएशन मेडिसीन में फिजीकल ओपीडी कोविड प्रोटोकॉल के पालन के साथ जारी रहेगी।
टेलीमेडिसीन के जरिये डॅक्टरों से परामर्श लेने के लिये मरीजों को बीएचयू की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर पहले रजिट्रेशन कराना होगा। वहां से रजिस्ट्रेशन होने के बाद मरीज का पूरा डिटेल उस डिपार्टमेंट में पहुंच जाएगा जहां से उसका इलाज होना है। इसके बाद वहां के डाॅक्टर मरीज की ओर से उपलब्ध कराए गए नंबर पर संपर्क कर मरीज का इलाज व परामर्श देंगे।
टेली कंसल्टेशन के लिये जनरल स्पेश्यालिटी डिपार्टमेंट के लिये 50, व सुपर स्पेश्यालिटी के लिये  30 मरीज फाॅलोअप मरीज जोड़कर का पंजीकरण हो सकेगा। अगर किसी मरीज को बुलाने की जरूरत होगी तो डाॅक्टर मरीज को इसके लिये अप्वाइंटमेंट देंगे। इसके अलावा अगर उस मरीज को इलाज के लिये किसी दूसरे डिपार्टमेंट में रेफर किया जाएगा तो उसे वहां के लिये अलग से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। रविवार को ये सेवा नहीं मिलेगी।


बीएचयू के चिकित्सा विज्ञान संस्थान की कोविड केयर माॅनिटरिंग कमेटी ने 13 अप्रैल 2021  से सर सुन्दरलाल चिकित्सालय एवं ट्रामा सेन्टर में ओपीडी एवं इलेक्टिव ओटी पूरी तरह बंद रखने का निर्णय लिया है। चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय सर सुन्दरलाल चिकित्सालय द्वारा इस बात की अधिसूचना भी जारी की जा चुकी है कि 13 अप्रैल से मरीजों के लिये सिर्फ टेली ओपीडी सेवा ही काम करेगी। ओपीडी आैर इलेक्टिव ओपीडी पूरी तरह से बंद रहेगी।


कैमूर से प्रतिदिन सैकङो मरीज परिजनों के साथ इलाज कराने जाते है बीएचयू।

बतादे की कैमूर ही नही बल्कि शाहाबाद के चारो जिले से प्रतिदिन सैकङो की संख्या में इलाज कराने परिजनों के साथ बीएचयू जाते है।ऐसे में ओपीडी बन्द होने से उनको इलाज में कठिनाई हो रही थी।लेकिन टेलीमेडिसिन सेवा शुरू होने से उनको राहत मिली है।नुआंव गांव निवासी विश्वनाथ गुप्ता ने बताया कि बुधवार को मुझे बीएचयू से टेली मेडिसिन की सेवा उपलब्ध कराई गई।विभागध्यक्ष डा0 मोना श्रीवास्तव ने स्वयं बात कर स्वास्थ संबंधी जानकारी लेकर परामर्श दिया।उन्होंने बताया कि इसके लिए हम पहले से आन लाइन राजिस्ट्रेधन किया था।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad