शुगर कंट्रोल करने के साथ याददाश्त भी बढ़ाता है जामुन - Ideal India News

Post Top Ad

शुगर कंट्रोल करने के साथ याददाश्त भी बढ़ाता है जामुन

Share This
#IIN




DR RJ GUPTA

बरसात के महीनें शुरू होते ही बाजारों में जगह-जगह काली रसीली जामुन देखने को मिलता रहता है। काले रंग का जामुन स्वाद में खट्टा-मीठा होने के साथ-साथ सेहत के लिए बड़ा फायदेमंद है। स्‍वादिष्‍ट और रसीला जामुन में ग्लूकोज, फ्रक्टोज, विटामिन C, A, राइबोफ्लेविन, निकोटिन एसिड, फोलिक एसिड, सोडियम और पोटैशियम के अलावा कैल्शियम, फॉस्फोरस, जिंक और आयरन मौजूद होता है, जो सेहत के लिए बेहद अच्छा होता है। औषधीय गुणों से भरपूर जामुन के बीज में ग्लाइकोसाइड, जंबोलिन और गैलिक एसिड पाया जाता है जो बीमारियों के इलाज में सहायक होता है। इतने गुणकारी जामुन का लगातार इस्तेमाल करने से याददाश्त दुरुस्त रहती है। जामुन से कई बीमारियों का उपचार भी किया जा सकता है। आइए जानते हैं कि जामुन से कौन-कौन फायदे हैं।

  • शुगर के मरीज़ों के लिए जामुन बेहद फायदेमंद होता हैं। यह इंसुलिन को नियंत्रित रखने का काम करता है। जामुन की गुठलियों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। इसे गुनगुने पानी से साथ खाली पेट 1 चम्मच लें इससे शुगर कंट्रोल रहेगी।
  • जामुन में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो एंटी एजिंग है। आप जामुन का पेस्ट बनाकर अपने चेहरे पर लगा सकते हैं इससे आपकी स्किन पर जल्द बुढ़ापा नहीं दिखेगा।
  • दिल की सेहत के लिए जामुन बेहद जरूरी है। यह खून को पतला करने में मदद करता हैं, जिसके कारण हार्ट ब्लॉकेज और स्ट्रोक का खतरा कम होता है।
  • जामुन का सेवन कैंसर से बचाव करने में मददगार है।
  • याद्दाश्त कमज़ोर है तो रोज़ाना जामुन का सेवन कीजिए। जामुन याददाश्त बढ़ाने में बेहद मददगार है।
  • शरीर में खून की कमी को दूर करता है जामुन। जामुन का रस, शहद, आंवले या गुलाब के फूल का रस बराबर मात्रा में मिलाकर एक-दो माह तक हर दिन सुबह के वक्त सेवन करने से रक्त की कमी एवं शारीरिक दुर्बलता दूर होती है। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad