बाल श्रम पर जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन - Ideal India News

Post Top Ad

बाल श्रम पर जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन

Share This
#IIN

धर्मेन्द्र सेठ जौनपुर

बाल श्रम पर जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन

जौनपुर - सरजू प्रसाद शैक्षिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था जज कॉलोनी जौनपुर के तत्वाधान में बाल श्रम पर जागरूकता शिविर  आयोजित की गई, जिसमें मुख्य अतिथि सहायक श्रम आयुक्त कुलदीप सिंह ने कहा कि बाल श्रम एक संगेय अपराध हैl यह अपराध कहीं पाया जाएगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

समय-समय पर जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में टास्क फोर्स द्वारा छापामारी करके कार्रवाई की जाती है, इसमें अर्थदंड 20,000 रुपया और उसकी गिरफ्तारी तक सुनिश्चित की जा सकती है, बाल श्रम कराने वाले के खिलाफ मुकदमा भी कायम होगा इसमें अर्थदंड के साथ-साथ उसको जेल भी जाना होगा।

बाल श्रमिकों के हित में बाल श्रम विद्या योजना भी चलाई जा रही है।जिसमें 1000 बाल श्रमिक परिवार को दिया जाएगा, कहीं बाल श्रम है तो इसकी सूचना विभाग को इस नंबर 1098 को अवश्य दें, हम चाहते हैं कि  कि बाल श्रमिकों तक योजना का लाभ पहुंचे और उनका शोषण न हो।
 
मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ वीरेंद्र सिंह जी ने कहा कि कोई बाल श्रमिक मिलता है तो सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग के द्वारा स्वास्थ संबंधी मेडिकल रिपोर्ट 24 घंटे के अंदर बनाना अनिवार्य है, उसके बाद ही उसको न्यायालय बाल कल्याण समिति में प्रस्तुत किया जा सकता है,बाल श्रमिकों का स्वास्थ्य सर्वाधिक महत्वपूर्ण है।

मनोज कुमार सिंह वत्स सचिव रेड क्रॉस सोसाइटी ने कहा कि ने कहा कि बाल श्रम के कारण चाइल्ड ट्रैफकिंग को भी बढ़ावा मिलता है, जिसमें अभियान चलाने की जरूरत है, बाल श्रम को खत्म करने के लिए जमीनी हकीकत से रूबरू होना पड़ेगा। आर्थिक रूप से उन परिवारों को  मदद करना होगा, बाल श्रम बढ़ने का मुख्य कारण गरीबी है।
 
समन्वयक राज्य प्रशिक्षक अखिलेश चंद्र पांडे ने कहा कि बाल श्रम एक सामाजिक अभिशाप है, जिसे दूर करने हेतु हम सभी संस्थाओं को महत्वपूर्ण भूमिका अदा करनी चाहिए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए फूल चंद भारती ने कहा जनपद के टास्क फोर्स को समय-समय पर अभियान चलाकर कार्रवाई करनी चाहिए ताकि जनपद में एक भी बाल श्रमिक न रह जाए।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए साहित्यकार श्री गिरीश श्रीवास्तव गिरीश ने कहा कि बाल श्रम यह समाज का एक नंगा सच है, जिसे हमें दूर करने हेतु निरंतर प्रयत्नशील रहना होगा, मैंने बालश्रमिकों के हित के लिए कई मुकदमे निशुल्क लड़ा है।

अंत में कार्यक्रम आयोजक संस्था सचिव पूर्व अध्यक्ष बाल न्यायालय संजय उपाध्याय ने कहा कि  लॉकडाउन में बाल श्रम बढा है रेस्टोरेंट्स, होटल रोडवेज, ट्रेन ,ढाबा, कालीन उद्योग, कल कारखानों दुकानों माल शॉपिंग सेंटर सड़कों पर पल रहे बच्चे स्ट्रीट चिल्ड्रन भीख मांगते प्रायः बच्चों को देखा जाता है जिन्हें चिन्हित करके इनके शिक्षा स्वास्थ्य एवं पुनर्वास हेतु विशेष कार्य योजना तैयार करनी होगी, जिसमें  केंद्र सरकार राज्य सरकार को बहुत संवेदनशीलता के साथ विशेष कार्य योजनाओं का निर्माण करना होगा।

अंत में आयोजक श्री संजय उपाध्याय द्वारा सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया गया। उक्त अवसर पर अभिषेक पांडेय,दिनेश मौर्य ,हिमांशु उपाध्याय, कैलाश प्रजापति, प्रदीप कुमार पाठक, लक्ष्मी नारायण यादव इत्यादि लोग उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad