रक्तसेवा जीवनदान है, हमारे द्वारा की गई रक्तसेवा कई जिंदगियों को बचाती है - विकास यादव। - Ideal India News

Post Top Ad

रक्तसेवा जीवनदान है, हमारे द्वारा की गई रक्तसेवा कई जिंदगियों को बचाती है - विकास यादव।

Share This
#IIN


रक्तसेवा जीवनदान है, हमारे द्वारा की गई रक्तसेवा कई जिंदगियों को बचाती है - विकास यादव।

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)।  


जिला अस्पताल में ब्लड बैंक के लिए सेवा भारती द्वारा रक्तसेवा शिविर लगाया गया जिसका शुभारम्भ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह जि़ला कार्यवाह विकास यादव ने किया। शिविर में सेवा भारती के जिला, नगर इकाई के पदाधिकारियों सहित 20 अन्य कार्यकर्ताओं ने रक्तसेवा की।

 इस अवसर पर विकास यादव ने कहा कि पिछले एक वर्ष से दुनिया भर में जो कोरोना महामारी चल रही है उससे करनाल भी अछूता नही है, जिसके कारण पहले की तरह रक्तसेवा शिविर नहीं लग पा रहे थे, जिसके परिणामस्वरूप रक्त की कमी महसूस की जा रही है, उसे पूरा करने का एक प्रयास राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, सेवा भारती और अन्य सामाजिक संस्थाओं द्वारा आरम्भ किया गया है।

 यह ब्लड कैम्प प्रतिदिन चलेगा और नियमित रूप से सूचि बनाकर रक्तसेवा के लिए कार्यकर्ताओं को भेजा जाएगा। इसके अतिरिक्त करनाल का कोई भी नागरिक यहां आकर इस मानवीय कार्य मे अपना योगदान दे सकता है। सेवा भारती की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि जैसा संस्था का नाम है इसका काम भी उसी के अनुरूप है। 

मानव सेवा के लक्ष्य को लेकर इस कोरोना काल में जिस प्रकार संस्था के कार्यकर्ता लगे हुए है वह अनुकरणीय है। चाहे हस्पतालों की व्यवस्था हो , कोरोना मरीजों के घरों में भोजन वितरण हो , होम काउंसलिंग हो , वेक्सिनेशन कैम्प हो या फिर आयुष किट का वितरण संस्था के लोग बिना किसी अपेक्षा के दिन रात काम मे लगे रहते है।

 उन्होंने कहा कि आज जो रक्तसेवा शिविर लगाया गया है यह इसलिए भी जरूरी हो जाता है, लोगों को रक्त की कमी से जान न गवानी पड़े इसके लिए सभी को बढ़चढ़ कर रक्तसेवा करनी चाहिए। सेवा भारती के प्रदेश अध्यक्ष सतीश चावला ने कहा कि रक्तसेवा से बड़ी दुनिया में कोई सेवा नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति को साल में कम से कम दो बार तो रक्तसेवा जरूर करनी चाहिए।

ज़रूरतमंद मरीजों को रक्त की व्यवस्था होती रहे। आपके शरीर के खून से किसी मरीज की जान बच सकती है। इससे बड़ी संसार में कोई मानवता नहीं है। समस्त विश्व में भी इसे सबसे बड़ी सेवा माना गया है क्योंकि रक्तसेवा ही है, जो न केवल किसी जरूरतमंद का जीवन बचाती है बल्कि जिंदगी बचाकर उस परिवार के जीवन में खुशियों के ढ़ेरों रंग भी भरती है।

 कल्पना कीजिए कि कोई व्यक्ति रक्त के अभाव में जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहा है और आप एकाएक उम्मीद की किरण बनकर सामने आते हैं और आपके द्वारा की गई रक्तसेवा से उसकी जिंदगी बच जाती है तो आपको कितनी खुशी होगी। मुख्यमंत्री के विधानसभा प्रतिनिधि संजय बठला ने कहा कि रक्तसेवा करने से शरीर को किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं होता बल्कि रक्त देने से शरीर को कई फायदे ही होते हैं। 

जहां तक रक्तसेवा से संक्रमण की बात है तो सभी स्वास्थ्य केन्द्रों द्वारा रक्त लेते समय विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा तय मानक तरीके अपनाए जाते हैं, इसलिए संक्रमण का कोई खतरा नहीं होता। उन्होंने भी सभी से निडर होकर रक्तसेवा करने की अपील की। आज के शिविर में युवाओं ने भी खूब उत्साह से रक्तसेवा की। 

विवेकानंद विद्यार्थी शाखा के मुख्य शिक्षक सागर ने बताया कि वह कब से रक्तसेवा के लिए उत्सुक था किंतु 18 वर्ष की आयु ना होने के कारण है रक्तसेवा नहीं कर पा रहा था आज उसका अठारवा जन्मदिन के उपलक्ष में उसने रक्तदान करके अपना जन्मदिन मनाया।

 इस मौके पर हस्पताल के एसएमओ डॉ संजय वर्मा , आरएसएस के सह जिला कार्यवाह महेंद्र सिंह नरवाल , प्रकल्प प्रमुख विनीत खेड़ा , दिनेश गर्ग, राजन अरोड़ा, वीरपाल सिंह, दीपक सचदेवा, नवींन भल्ला, संजय आनंद हर्ष  , श्याम  ,अजब सिंह , सागर सहित अन्य कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad