पलक झपकते ही थम गईं सांसें - Ideal India News

Post Top Ad

पलक झपकते ही थम गईं सांसें

Share This
#IIN


Shiv Ram Singh  And Kali Charan Gupta
शाहजहांपुर 
 कार चालक की पलक झपकते न सिर्फ उसमें सवार लोगों की सांसे थम गई बल्कि लखनऊ-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग की रफ्तार भी थम गई। वरुण-अर्जुन मेडिकल कॉलेज के पास से गुजर रहा हर व्यक्ति कार में फंसे घायलों को बाहर निकालने के लिए दौड़ पड़ा। तिलहर पुलिस के पहुंचने से पहले ज्यादातर घायलों को लोगों ने बाहर निकाल लिया। जबकि हीरा लाल व विजय का शव कार का अगला हिस्सा काटकर बाहर निकाले गए। उनके क्षत-विक्षत शव देख वहां मौजूद हर किसी की आंख नम हो गई। वहीं हादसे की जानकारी होने पर मृतक के स्वजन पहले राजकीय मेडिकल कॉलेज बाद में पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। दोस्ती की खातिर छोड़ दिया था घर
रामनरेश व हीरा लाल कहने को तो चाचा-भतीजे थे। लेकिन हम उम्र होने की वजह से दोनों दोस्त की तरह एक-दूसरे के सुख-दुख में शामिल होते थे। करीब डेढ़ दशक पहले गांव में विवाद होने की वजह से दोनों लोग निगोही रहने चले आए थे। यहां रेलवे फाटक के पास दोनों ने एक साथ पहले पीसीओ बाद में किराना व कबाड़ की दुकान खोल ली। अनाथ हो गए बच्चे

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad