महाराणा प्रताप की जयंती क्षत्रिय महासभा के द्वारा मनाई गई - Ideal India News

Post Top Ad

महाराणा प्रताप की जयंती क्षत्रिय महासभा के द्वारा मनाई गई

Share This
#IIN
अखिलेश मिश्रा बागी मिर्जापुर



मिर्जापुर शहर के बदली घाट पर  9 मई को महाराणा प्रताप की जयंती क्षत्रिय महासभा के द्वारा मनाई गई कार्यक्रम का शुभारम्भ  वीर सपूत महाराणा प्रताप के चित्र पर पुष्प अर्पित कर किया गया ,देश के लिए अपना सब कुछ अर्पण करने बाले महाराणा प्रताप के जीवन पर प्रकाश डालते हुए  वक्ताओं ने कहा कि महाराणा प्रताप सिसोदिया उदयपुर मेवाड़ के राजपूत राजवंश के राजा थे उनका नाम इतिहास में वीरता  के लिए अमर है उन्होंने मुगल सम्राट अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की और कई सालों तक संघर्ष किया उन्होंने मुगलो को कई बार युद्ध में भी हराया भारत भूमि के गौरव महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को मेवाड़ प्रांत में हुआ था महाराणा प्रताप की वीरता युद्ध कौशल अपारशक्ति के धनी और उनके युद्ध कौशल में धनी सहयोगी चेतक को दुनिया आज भी सलाम करती है संपूर्ण मुगल सल्तनत एवं मुगल सम्राट अकबर भी महाराणा प्रताप की वीरता के संपर्क से महाराणा प्रताप का जीवन परिचय एवं महाराणा प्रताप का चरित्र इतिहास कुछ इस प्रकार से है भारतीय इतिहास में राजपूताने का गौरव स्थान रहा है यहां के रणबांकुरे देश धर्म तथा स्वाधीनता की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने में कभी संकोच नहीं किया  महाराणा प्रताप ने अपने जीवन में कष्ट सहते हुए देश को पराधीनता से मुक्त कराने के लिए घास की रोटी खाना मंजूर किया लेकिन स्वाभिमान से कभी भी समझौता नहीं किया हमे गर्व है कि ऐसे वीर सपूत की संतान है जिनका अनुसरण करके हम सब को आगे बढ़ना चाहिए और इस आपदा की घड़ी में क्षत्रिय समाज के लोगों को आगे आकर मदद करना चाहिए यह भी हम सब की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है यह समाज हमेशा से लोगों की रक्षा का संकल्प लिया था और समाज के बुद्धिजीवी समाज सेवक राजनीतिक सभी व्यक्तियों को महाराणा प्रताप से सीख लेते हुए इस भारत भूमि की रक्षा का संकल्प लेकर लोगों की मदद के लिए आगे आना चाहिए इस अवसर मनीष सिंह, दिलीप सिंह गहरवार, मनजीत सिंह ,हर्षित सिंह मृणाल सिंह , राम सिंह, सहिय दर्जनों लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए महाराणा प्रताप के चित्र पर  पुष्प अर्पित किया ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad