सिक्के ने बना दिया मुकद्दर का सिकंदर* - Ideal India News

Post Top Ad

सिक्के ने बना दिया मुकद्दर का सिकंदर*

Share This
#IIN
अवधेश मिश्रा जौनपुर
*सिक्के ने बना दिया मुकद्दर का सिकंदर*


जौनपुर। चुनाव में एक-एक वोट यूं ही बेशकीमती नहीं माना जाता। एक-एक वोट के अंतर से तीन तो दो वोट के अंतर से प्रतिद्वंद्वी को पराजित कर एक ने प्रधान पद की जंग जीत ली। विकास खंड सुजानगंज के ग्रामसभा नगौली की प्रधान निर्वाचित घोषित की गईं। दुलारी देवी को 516 मत जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी शारदा देवी को 515 मत प्राप्त हुए। इसी प्रकार ग्रामसभा करौरा गांव में रेनू देवी को 535 जबकि उनकी निकटतम प्रतिद्वंद्वी निर्मला देवी को 534 वोट मिले। 

 विकास खंड सिकरारा के ग्रामसभा रसूलपुर से राजेश मौर्य ने एक मत के ही अंतर से अपनी प्रतिद्वंद्वी अशर्फी देवी को पराजित किया। राजेश मौर्य को 196 जबकि अशर्फी देवी को 195 मत प्राप्त हुए। ग्रामसभा सतलपुर गांव में रामचंद्र यादव की पत्नी मलयवती यादव तीन ने तीन बार वोटों की गिनती के बाद अपने प्रतिद्वंद्वी सुनील कुमार यादव को दो वोटों से पराजित किया। मलयवती को 368 जबकि सुनील कुमार यादव को 366 मत प्राप्त हुए। इसी तरह ग्राम सभा देवपुर में भी बहुत कांटे की टक्कर दिखी। प्रधान पद के प्रत्याशी रमेश सरोज ने अपनी प्रतिद्वंद्वी फूल कुमारी को महज चार मतों से हराया। रमेश को 113 और फूल कुमारी को 109 वोट मिले। ग्रामसभा पालपुर में प्रधान पद के दावेदार प्रदीप यादव ने नीलम यादव पर सात मतों के अंतर से जीत दर्ज की। प्रदीप को 159 और नीलम यादव को 152 मत प्राप्त हुए। ग्राम सभा लेधुआ गांव में प्रेमा देवी, जमालपुर में लीलावती देवी, हसनपुर में मीरा देवी ने भी अपने-अपने प्रतिद्वंद्वियों को सात-सात वोटों के अंतर से हराया। इनसेट ..बॉक्स में जौनपुर: गिनती में वोट बराबर मिलने पर फैसला टास के जरिए हुआ। मुकद्दर के सिकंदर साबित हुए समरजीत ग्राम प्रधान तो महेंद्र मौर्य क्षेत्र पंचायत सदस्य बन गए। सिकरारा विकास खंड की ग्रामसभा मझौली के प्रधान पद के लिए समरजीत व विनोद दोनों को 205-205 वोट मिले। आरओ मनीष राय ने व खंड विकास अधिकारी डाक्टर छोटेलाल तिवारी ने सहमति से टास कराया। टेल आने पर समरजीत को विजयी घोषित कर दिया गया। उधर, खुटहन विकास खंड के अंगुली गांव से क्षेत्र पंचायत सदस्य पद के दो प्रत्याशियों महेंद्र नाथ मौर्य और रामेश्वर यादव दोनों को 190-190 वोट मिले। दोनों की सहमति से आरओ ने सिक्का उछाला। भाग्य के सहारे महेंद्र नाथ मौर्य ने बाजी मार ली।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad