इस गुरुद्वारे में कभी भूखे नहीं जाते लोग - Ideal India News

Post Top Ad

इस गुरुद्वारे में कभी भूखे नहीं जाते लोग

Share This
#IIN



हमारे देश में कई ऐसे मंदिर और गुरुद्वारा है जो ना जाने कितने ही रहस्यों को छुपाए हुए है. आज हम आपको ऐसे ही एक रहस्यमयी गुरुद्वारे के बारे में बताएंगे जहां पर कभी लंगर नहीं बनता ना ही कोई गोलक है इसके बावजूद भी यहां कोई भूखा नहीं रहता है.

जी हां चंडीगढ़ के सेक्टर-28 स्थित गुरुद्वारा नानकसर की है. इस गुरुद्वारे पर न तो लंगर बनता है और नहीं गोलक है. यहां संगत अपने घर से बना लंगर लेकर आती है. जानकारी के मुताबिक लंगर में देसी घी के पराठें, मक्खन, कई प्रकार की सब्जियां और दाल , मिठाइयां और फल संगत के लिए रहता है.

संगत के लंगर खाने के बाद जो बच जाता है उसे सेक्टर-16 और 32 के अस्पताल के अलावा पीजीआई में भेज दिया जाता है, ताकि वहां पर भी लोग प्रसाद ग्रहण कर सकें. ऐसा की वर्षों से होता आ रहा है.

 बताते चलें कि गुरुद्वारा नानकसर का निर्माण दिवाली के दिन हुआ था. चंडीगढ़ स्थित नानकसर गुरूद्वारे के प्रमुख बाबा गुरदेव सिंह के मुताबिक इस गुरुद्वारे के निर्माण के हो गए हैं.

ये गुरूद्वारा पौने दो एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है. इस गुरुद्वारे में लाइब्रेरी भी है, यहां पर दातों का फ्री इलाज होता है, एक लैब भी है. हर वर्ष मार्च में वार्षिक उत्सव होता है. वार्षिकोत्सव सात दिनों का होता है.

लोग देश-विदेश से संगत में शामिल होने आते हैं. इस दौरान एक विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन होता है. कहा जाता है कि यहां पर गोलक इसलिए नहीं है कि कोई झगड़ा न हो. मांगने का काम नहीं है, सेवा करने वाले लोग यहां आते हैं.

गुरुद्वारे का मुख्यालय नानकसर कलेरां है. जानकारी के अनुसार, साल में दो वार अमृतपान कराया जाता है. गुरुद्वारा नानकसर में 30 से 35 लोग है, जिसमें रागी पाठी और सेवादार हैं.

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad