होम्योपैथिक चिकित्सा विधा के आविष्कारकर्ता डॉ. हैनिमैन की मनाई गई जयंती - Ideal India News

Post Top Ad

होम्योपैथिक चिकित्सा विधा के आविष्कारकर्ता डॉ. हैनिमैन की मनाई गई जयंती

Share This
#IIN


Dr.U.S. Bhagat
वाराणसी 
 जिला होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में होम्योपैथिक चिकित्सा विधा के आविष्कारकर्ता डॉ. हैनिमैन की जयंती विश्व होम्योथिक दिवस के रूप में हर्षोल्लास एवम कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान में रख कर मनायी गई। कार्यालय परिसर स्थित डॉ हैनिमैन की मूर्ति पर माल्यार्पण किया गया। कार्यक्रम में जिला होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी डा. रचना श्रीवास्तव ने बताया कि डा. हैनिमैन महामानव थे और उन्होंने विषम परिस्थितियों में भी सीमित संसाधनों की उपलब्धता में भी सुरक्षित, असरदार एवम दुष्प्रभावरहित चिकित्सा पद्धति होम्योपैथी की खोज की। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दूसरी सबसे बड़ी चिकित्सा पद्धति के रूप में स्थापित हुई है।होम्योपैथी के माध्यम से हम पीड़ित मानवता की अनवरत सेवा यूँही करते रहे,यही हम लोगों की उनके प्रप्ति  सच्चा आदर होगा।इस महामारी में होम्योपैथी के प्रति लोगों का रुझान बहुत ज्यादा बढ़ा है। कार्यक्रम प्रान्तीय होम्योपैथिक चिकित्सा सेवा संघ ,वाराणसी शाखा की तरफ से आयोजित किया गया। कार्यक्रम में पूर्व जिला होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी डॉ आर पी सिंह जी, डॉ शिव राम सिंह यादव जी की गरिमामयी उपस्थिति रही। कार्यक्रम में संघ की वाराणसी शाखा के अध्यक्ष डॉ जे बी सिंह एवम सचिव डॉ विनीत पांडेय की तरफ से जनपद में एक वर्ष पूर्व आये हुए  चिकित्सा अधिकारियों डॉ सतीश मौर्या एवम डॉ कृष्णा कुशवाहा को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में डॉ जे बी सिंह, डॉ दीपक सिंह, डॉ विनीत पांडेय, डॉ पंकज पांडेय, डॉ मनीष त्रिपाठी, डॉ शशिधर पांडेय, डॉ रुद्रेश्वर त्रिपाठी, डॉ अश्वनी जायसवाल, डॉ अनिल कुमार गुप्ता (प्रान्तीय कोषाध्यक्ष, प्रान्तीय होम्योपैथिक चिकित्सा सेवा संघ,उ.प्र.) एवम लालू यादव की उपस्थिति रही।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad