वाझे ने एनआइए कोर्ट में फोड़ा 'लेटर बम' - Ideal India News

Post Top Ad

वाझे ने एनआइए कोर्ट में फोड़ा 'लेटर बम'

Share This
#IIN


Mayank Jha and Anil Gupta

मुंबई
 महाराष्ट्र में नाजायज वसूली का बवंडर लगातार विकराल होता जा रहा है। अनिल देशमुख के बाद महाराष्ट्र सरकार के एक और मंत्री अनिल परब पर वसूली कराने का आरोप लगा है। अंटीलिया मामले एवं मनसुख हिरेन हत्याकांड में गिरफ्तार मुंबई पुलिस के निलंबित एपीआइ सचिन वाझे ने एनआइए कोर्ट को पत्र लिखकर बताया है कि उससे अनिल देशमुख के अलावा शिवसेना कोटे के परिवहन मंत्री अनिल परब भी वसूली करवाते थे। अनिल देशमुख जहां बार एवं रेस्टोरेंट्स से वसूली करने को कहते थे, वहीं अनिल परब ने मुंबई महानगरपालिका के ठेकेदारों से वसूली करने को कहा था। वाझे के इस पत्र से पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा देशमुख पर लगाए गए आरोपों की भी पुष्टि होती दिख रही है।

अदालत को लिखे अपने हस्तलिखित पत्र में सचिन वाझे ने बड़ा धमाका करते हुए कहा है कि छह जून, 2020 को उसका निलंबन समाप्त होने के कुछ ही दिन बाद गृहमंत्री अनिल देशमुख ने उसे नागपुर से फोन करके कहा कि राकांपा अध्यक्ष शरद पवार उसे फिर से निलंबित कराना चाहते हैं। गृहमंत्री ने कहा कि यदि वह उन्हें दो करोड़ रुपए दे, तो वे शरद पवार को समझाएंगे। वाझे के अनुसार दो करोड़ रुपए दे पाने में असमर्थता जाहिर करने पर देशमुख ने कहा कि बाद में दे देना।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad