1 करोड़ 3 लाख लोगों को लग चुके कोविड-19 टीके": राज्य टीकाकरण अधिकारी, उत्तर प्रदेश* - Ideal India News

Post Top Ad

1 करोड़ 3 लाख लोगों को लग चुके कोविड-19 टीके": राज्य टीकाकरण अधिकारी, उत्तर प्रदेश*

Share This
#IIN
डा मिथिलेश श्रीवास्तव जौनपुर
*“1 करोड़ 3 लाख लोगों को लग चुके कोविड-19 टीके": राज्य टीकाकरण अधिकारी, उत्तर प्रदेश*


*हार्वर्ड टी.एच. चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ- इंडिया रिसर्च सेंटर और प्रोजेक्ट संचार की ओर से आयोजित वेबिनार में टीकाकरण से जुड़े उत्तर प्रदेश के अधिकारियों और विशेषज्ञों ने दी जानकारी*

जौनपुर, 16 अप्रैल, 2021-

कोविड-19 के मामलों में हो रही बेतहाशा बढ़ोतरी के बीच उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया है कि अब तक प्रदेश में 1 करोड़ 3 लाख लोगों को टीके लग चुके हैं। साथ ही टीकाकरण केंद्रों पर अनावश्यक परेशानी से बचने के लिए इन्होंने लोगों को पहले से ही को-विन प्लेटफार्म पर रजिस्टर करने की भी अपील की। साथ ही केजीएमयू, लखनऊ की माइक्रोबायोलॉजी की विभागाध्यक्ष प्रोफेसर अमिता जैन ने कहा कि फिलहाल ‘टेस्ट, ट्रेस एंड ट्रीट’  की पुरानी नीति बहुत कारगर नहीं इसलिए कांटेक्ट ट्रेसिंग की बजाय सरकार को अस्पताल में बेड और इलाज की सुविधा बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए। यह बात इन्होंने हार्वर्ड टी.एच. चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ- इंडिया रिसर्च सेंटर और प्रोजेक्ट संचार की ओर से आयोजित वेबिनार के दौरान कही। 
शुक्रवार को आयोजित इस वेबिनार का विषय था, ‘उत्तर प्रदेश में कोरोना टीकाकरणः अवसर और चुनौतियां।’ इसमें उत्तर प्रदेश राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. अजय घई; राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के उत्तर प्रदेश में रुटीन टीकाकरण के महा प्रबंधक डॉ. मनोज कुमार शुकुल; किंग जॉर्ज्स मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ की प्रोफेसर और माइक्रोबायोलॉजी विभाग की अध्यक्ष प्रो. अमीता जैन और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के बाल रोग विभाग की प्रोफेसर जीबा जाका उर रब ने अपने विचार साझा किए। 
कोविड-19 की ताजा लहर से भी प्रभावित हुआ टीकाकरण
राज्य के टीकाकरण अधिकारी डॉ. अजय घई ने बताया, “उत्तर प्रदेश ने अब तक कोविड-19 के 1 करोड़ 3 लाख टीके लगा लिए हैं। सिर्फ लखनऊ में ही प्रति दिन 15 से 20 हजार टीके लगाए जा रहे थे। लेकिन कोविड-19 की दूसरी लहर आने के बाद स्वास्थ्य विभाग का ध्यान कोरोना नियंत्रण और प्रबंधन पर और बढ़ गया है। इस वजह से टीकाकरण से थोड़ा ध्यान बंटा है।” साथ ही उन्होंने कहा “लक्ष्य वर्ग की आबादी के साथ ही टीके की उपलब्धता को भी ध्यान में रख कर ही टीकाकरण के प्रति दिन का लक्ष्य तय किया जाता है।” उन्होंने कहा कि लोग अगर टीकाकरण के लिए केंद्र पर आने से पहले ही को-विन पोर्टल पर रजिस्टर कर लेते हैं तो पहले से अंदाजा हो सकेगा कि कितनी डोज की जरूरत होगी। प्रदेश के हर जिले में एक विशेष वैन तैयार की गई है जो राज्य के हर कोने में टीके की आपूर्ति सुनिश्चित कर रही है। 
राज्य में रुटीन टीकाकरण के महा प्रबंधक डॉ. मनोज कुमार शुकुल ने कहा, “टीका उत्सव के दौरान 11 से 13 अप्रैल के बीच उत्तर प्रदेशों में 14,55,900 लोगों को टीका लगाया गया है। पहले कोवैक्सीन 20 डोज की वायल में उपलबध थी। एक बार वायल को खोलने पर चार घंटे के अंदर उसका उपयोग करना होता है। इससे टीके की डोज बर्बाद भी हो रही थी। लेकिन अब कोवैक्सीन भी कोविशिल्ड की तरह 10 डोज की वायल में उपलब्ध है। इसलिए बर्बादी भी कम हो गई है।” 
टीकों को ले कर अब नहीं हिचहिचाहट
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में बाल बाल रोग विभाग की प्रोफेसर जीबा जाका उर रब ने प्रदेश के विभिन्न वर्गों में टीकों को ले कर हिचकिचाहट के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा, “वैज्ञानिकों ने इस बात का पहले ही अंदाजा लगा लिया था और कहा था कि जैसे-जैसे टीकाकरण का विस्तार होगा, लोगों की हिचकिचाहट दूर होती जाएगी। टीका लगाने वालों के अनुभव को देखने के बाद दूसरे भी प्रोत्साहित होंगे। जब टीकाकरण शुरू हुआ था उस समय बहुत से स्वास्थ्यकर्मी भी इसको ले कर आशंकित थे। लेकिन जब कोरोना से होने वाली गंभीर समस्याओं को दूर करने में इसका प्रभाव दिखाई देने लगा तो टीकों को ले कर लोगों में भारी उत्साह देखा जाने लगा है। कोरोना संक्रमण से लड़ने में अब यह सर्वाधिक अहम साधन के रूप में देखा जा रहा है।” 
डॉ. अजय घई ने कहा कि टीके के साइड इफेक्ट को ले कर लोगों को डरना नहीं चाहिए। उन्होंने कहा, प्रदेश में हर व्यक्ति को टीका लगाने के बाद पैरासीटामोल की दो गोलियां दी जा रही हैं ताकि बुखार या बदन दर्द होने पर वे इसे ले सकें। टीकाकरण के बाद बेहोशी जैसी कुछ घटनाएं भी देखी गईं, लेकिन यह इंजेक्शन लेने और टीका लेने से जुड़े शुरुआती मनोवैज्ञानिक भय की वजह से थीं। 
बूस्टर डोज की जरूरत पर शोध जारी
केजीएमयू, लखनऊ में माइक्रोबायोलॉजी की विभागाध्यक्ष प्रोफेसर अमिता जैन ने कहा, “कुछ टीकों के मामलों में बूस्टर डोज बहुत महत्वपूर्ण होती है। इससे टीके का प्रभाव लंबे समय तक सुनिश्चित हो पाता है। मीजल्स के मामले में जहां बूस्टर डोज की जरूरत नहीं होती, वहीं टेटनस के मामले में 10 साल के बाद एक बूस्टर डोज बेहद उपयोगी होती है। कोविड-19 नया वायरस है और अभी इस टीके के अभी दुनिया भर में दो डोज ही दिए जा रहे हैं, लेकिन भविष्य में इसकी और बुस्टर डोज की जरूरत हो सकती है। जिस तरह इसके संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है ‘टेस्ट, ट्रेस एंड ट्रीट’  की पुरानी नीति फिलहाल बहुत कारगर नहीं होगी। कांटेक्ट ट्रेसिंग बहुत कठिन होती है और फिलहाल इसकी जरूरत नहीं होगी। इसकी बजाय सरकार को अस्पताल में बेड और इलाज की सुविधा बढ़ाने पर ध्यान देना होगा।” 
वक्ताओं ने जोर दिया कि टीके के पात्र लोगों को को-विन प्लेटफार्म पर खुद रजिस्टर करना चाहिए। साथ ही इन्होंने भ्रामक सूचना और फेक न्यूज से सचेत करते हुए सिर्फ विश्वस्त स्रोतों से मिलने वाली सूचना को ही गंभीरता से लेने को कहा। वेबिनार का संचालन राजस्थान पत्रिका समूह के राष्ट्रीय एकीकृत ब्यूरो के प्रमुख श्री मुकेश केजरीवाल ने किया। 

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें:
डॉ. अनन्या अवस्थी
सहायक निदेशक - अनुसंधान और सरकारी साझेदारी
हार्वर्ड टी.एच. चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ- इंडिया रिसर्च सेंटर
awasthi@hsph.harvard.edu
+91  9810214871
डॉ. आस्था कांत
प्रोजेक्ट मैनेजर - प्रोजेक्ट संचार
हार्वर्ड टी.एच. चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ- इंडिया रिसर्च सेंटर 
akant@hsph.harvard.edu
+91 9967837731
वेबिनार के बारे में: "On the Frontlines" सीरीज के तहत आज की इस वेबिनार का आयोजन ‘प्रोजेक्ट संचार’ और हार्वर्ड टी.एच चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ- इंडिया रिसर्च सेंटर की ओर से किया गया। 

आयोजकों के बारे में
वर्ष 2015 में स्थापित किया गया ‘इंडिया रिसर्च सेंटर’ हार्वर्ड टी.एच चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ का पहला ग्लोबल सेंटर है। इसके तीन रणनीतिक लक्ष्य हैं- शोध, शिक्षण और साक्ष्यों का नीतियों और कार्यक्रमों में रूपांतरण। यह सेंटर फैकल्टी एक्सचेंज के साथ ही लोक स्वास्थ्य शोधकर्ताओं और हार्वर्ड चैन की फैकल्टी के बीच साझेदारी का एक मंच उपलब्ध करवाता है। 

प्रोजेक्ट संचार के बारे में: प्रोजेक्ट संचार (साइंस एंड न्यूजः कम्यूनिकेटिंग हेल्थ एंड रिसर्च) का मकसद पत्रकारों को स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर काम करने के लिए अधिक सक्षम बनाना है, ताकि वे इन विषयों पर लोगों की जानकारी, नजरिये और लोक नीति को आकार देने के लिए नवीनतम वैज्ञानिक शोध और आंकड़ों का बेहतर उपयोग कर सकें। इस प्रोजेक्ट के तहत अब तक भारत के 9 राज्यों के 70 जिलों के लगभग 200 पत्रकारों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad